Covid-19 Update: प्रयागराज में कोरोना से 1267 मरीज संक्रमित, 21 व्यक्तियों की मौत

वहीं, विभिन्न अस्पतालों से 56 मरीजों को संक्रमण मुक्त होने के बाद छुट्टी दी गई. (सांकेतिक फोटो)

वहीं, विभिन्न अस्पतालों से 56 मरीजों को संक्रमण मुक्त होने के बाद छुट्टी दी गई. (सांकेतिक फोटो)

नोडल अधिकारी (COVID-19) डाक्टर ऋषि सहाय ने बताया कि बृहस्पतिवार को कुल 13,691 नमूने लिए गए जिसमें से 1,267 नमूने कोरोना से संक्रमित पाए गए.

  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के प्रयागराज जिले (Prayagraj District) में बृहस्पतिवार को 1,267 व्यक्तियों के कोरोना से संक्रमित होने की पुष्टि हुई. वहीं, 21 व्यक्तियों की कोविड-19 से मृत्यु हुई. जिले के नोडल अधिकारी (COVID-19) डाक्टर ऋषि सहाय ने बताया कि बृहस्पतिवार को कुल 13,691 नमूने लिए गए जिसमें से 1,267 नमूने कोरोना से संक्रमित पाए गए. उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को 1627 व्यक्तियों ने घर में पृथक-वास पूरा किया. वहीं, विभिन्न अस्पतालों से 56 मरीजों को संक्रमण मुक्त होने के बाद छुट्टी दी गई.

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण एक बार फिर तेजी से फैला है. पिछले 24 घंटों की बात की जाए तो 35,156 नए मामले सामने आए हैं. वहीं, 258 लोगों की मौत हो गई है. अब प्रदेश में सक्रिय मामलों की संख्या 3,09,237 पहुंच गई है. वहीं, पिछले एक दिन में 2,25,312 लोगों के सैंपलों की जांच की गई. एक राहत की खबर ये भी है कि 25,613 लोगों ने कोरोना को मात दी और अस्पताल से डिस्चार्ज हो गए हैं. ये जानकारी अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने दी.

सूबे में 29824 नए मरीज मिले थे

इससे एक दिन पहले ही सूबे में 29824 नए मरीज मिले थे और 266 मरीजों की मौत हो गई थी. इस दौरान 35,903 लोग अस्पताल से डिस्चार्ज हुए थे. वहीं, इससे पहले बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए सूबे की योगी सरकार ने एक और बड़ा फैसला लिया है. वीकेंड लॉकडाउन का दायरा एक दिन और बढ़ा दिया गया है. अब शुक्रवार शाम 8 बजे से मंगलवार सुबह 7 बजे तक लॉकडाउन रहेगा. दरअसल, वीकेंड लॉकडाउन के बाद से कोरोना संक्रमण की रफ़्तार में कमी देखने को मिली है, लिहाजा तीन दिन का लॉकडाउन पूरे प्रदेश में लगाया है. इस दौरान सभी आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी. बेवजह घूमने वालों पर सख्ती से निपटा जाएगा. दरअसल, सरकार ने संपूर्ण लॉकडाउन से इनकार किया है, लेकिन तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण को देखते हुए अब इसे धीरे-धीरे बढ़ाया जा रहा है, ताकि संक्रमण की चेन को तोड़ा जा सके और आम जनता में भी पैनिक न हो.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज