Covid-19 Update: प्रयागराज में कोरोना वायरस के 652 नए मामले, 4 मरीजों की मौत

स्वरूपरानी नेहरू एल-3 अस्पताल में 182 मरीजों का इलाज चल रहा है. (सांकेतिक फोटो)

स्वरूपरानी नेहरू एल-3 अस्पताल में 182 मरीजों का इलाज चल रहा है. (सांकेतिक फोटो)

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रभाकर राय (Dr. Prabhakar Rai) के मुताबिक, सोमवार को कुल 7,535 नमूने लिए गए जिसमें से 652 नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई.

  • Share this:

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले (Prayagraj District) में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण (Corona virus infection) के 652 नए मामले सामने आए. वहीं, चार मरीजों की संक्रमण से मौत हो गई. जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर प्रभाकर राय (Dr. Prabhakar Rai) के मुताबिक, सोमवार को कुल 7,535 नमूने लिए गए जिसमें से 652 नमूनों में संक्रमण की पुष्टि हुई. उन्होंने बताया कि स्वरूपरानी नेहरू एल-3 अस्पताल में 182 मरीजों का इलाज चल रहा है, जबकि एल-2 तेज बहादुर सप्रू अस्पताल में 33 मरीज भर्ती हैं.

वहीं, कल खबर सामने आई थी कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण एक बार फिर भयावह रूप लेता जा रहा है. पिछले 24 घंटों में रिकॉर्ड 4164 नए संक्रमित मरीज मिले हैं. संक्रमण की वजह से 31 लोगों की मौत हुई थी. इससे पहले 27 सितंबर 2020 को चार हजार से अधिक मरीज मिले थे. इस समय प्रदेश में 19,738 एक्टिव मरीज हैं. बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए सरकार ने रविवार को कन्टेनमेंट जोन को लेकर दिशा निर्देश भी जारी कर दिए हैं.

मीटर रेडियस के क्षेत्र को प्रतिबंधित किया जाएगा

अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि राजधानी लखनऊ में 1129 नए मरीज मिले हैं. लखनऊ में एक दिन में सर्वाधिक संक्रमित पिछले साल 18 सितंबर को मिले थे. तब 1244 केस सामने आए थे. वहीं वाराणसी में 453, प्रयागराज में 397, कानपुर नगर में 235 मरीज मिले हैं. इकतीस मौतों में से लखनऊ में आठ, रायबरेली में दो, बाराबंकी, सीतापुर, बहराइच में एक-एक मरीज की मौत हुई. कोरोना संक्रमण के बढ़ते ग्राफ को देखते हुए सरकार ने संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए कन्टेनमेंट जोन का नियम बदल दिया है. अब कोई केस मिलने पर 25 मीटर और ज्यादा केस होने पर 50 मीटर रेडियस के क्षेत्र को प्रतिबंधित किया जाएगा.
सतर्कता बरतने की अपील की है

अगर पूरे देश की बात करें तो कोरोना संक्रमण की दूसरी लहार डराने लगी है. एक सौ ९८ दिन बाद एक दिन में भारत में एक लाख से ज्यादा मरीज़ सामने आए. पिछले साल 18 सितंबर को एक दिन में 93 हजार मामले सामने आए थे. लगातार बढ़ रहे संक्रमण के बीच केंद्र सरकार ने भी टीकाकरण में तेजी लाने और सतर्कता बरतने की अपील की है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज