• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • COVID-19: लॉकडाउन के बीच प्रयागराज में रामायण और महाभारत सीरियल देखने का क्रेज

COVID-19: लॉकडाउन के बीच प्रयागराज में रामायण और महाभारत सीरियल देखने का क्रेज

प्रयागराज में रामायण और महाभारत सीरियल देखने का क्रेज

प्रयागराज में रामायण और महाभारत सीरियल देखने का क्रेज

गौरतलब है कि 25 जनवरी 1987 को पहली बार रामानंद सागर द्वारा निर्मित रामायण सीरियल का दूरदर्शन पर प्रसारण शुरु किया गया था. यह वो दौर था जबकि गांव-देहात में बेहद कम घरों में टीवी सेट हुआ करते थे.

  • Share this:
प्रयागराज. रामायण सीरियल (Ramayana Serial) का टीवी पर प्रसारण (Telecast) करने का सरकार ने निर्णय लिया है. शनिवार सुबह से रामायण और महाभारत का सीरियल टीवी पर फिर से शुरू भी हो गया है. रामायण सीरियल का दोबारा दूरदर्शन पर प्रसारण किए जाने को लेकर लोगों में खासी उत्सुकता बनी हुई थी. लोग सुबह से ही परिवार के साथ टेलीविजन पर रामायण सीरियल देखने की तैयारी कर रहे थे. सुबह 9 बजते ही लोग घरों में टीवी सेटों से चिपक गए. लॉकडाउन के बीच लोगों ने पूरे परिवार के साथ रामायण सीरियल का आनन्द उठाया है. यह सीरियल टीवी पर रात 9 बजे भी प्रसारित किया जायेगा. इसके साथ ही 90 के दशक में दूरदर्शन पर खासे लोकप्रिय रहे महाभारत सीरियल का भी आज दोपहर दो बजे से डीडी भारती पर प्रसारण किया जायेगा.

जिसको लेकर भी लोगों मे खासी उत्सुकता बनी हुई है. लॉकडाउन के दौरान टेलीविजन पर दोबारा प्रसारित हो रहे रामायण सीरियल को बचपन में देख चुके लोग जहां इसके जरिए अपनी पुरानी यादों को ताजा कर रहे हैं. तो वहीं पहली बार दूरदर्शन पर रामायण और महाभारत सीरियलों को देखने के लिए बच्चे भी खासे रोमांचित हैं. उन्हें इसके जरिए जहां रामायण और महाभारत की कहानी का पता चल रहा है. तो वहीं परिवार के बड़े बुजुर्गों का मानना है कि इससे उनमें संस्कार भी पैदा होंगे.

गौरतलब है कि 25 जनवरी 1987 को पहली बार रामानंद सागर द्वारा निर्मित रामायण सीरियल का दूरदर्शन पर प्रसारण शुरु किया गया था. यह वो दौर था जबकि गांव-देहात में बेहद कम घरों में टीवी सेट हुआ करते थे और शहरों में भी ब्लैक एंड ह्वाइट टीवी का ही दौर चल रहा था. लेकिन रामायण और महाभारत सीरियल का लोगों में क्रेज ऐसा रहता था कि सड़कें सूनीं हो जातीं थी और लोग एक जगह इकठ्ठा होकर यह सीरियल देखते थे.

रामायण सीरियल का आखिरी एपीसोड दूरदर्शन पर 31 जुलाई 1987 को प्रसारित हुआ था. इसमें अरुण गोविल ने राम की भूमिका निभाई थी और दीपिका चिखलिया सीता के रोल में नजर आयीं थी. इस सीरियल की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इन कलाकारों को लोग पर्दे के बाहर भी राम और सीता ही मानने लगे थे.

ये भी पढे़ं:

अयोध्या Lockdown: विश्व हिंदू परिषद ने अपनी चौरासी कोस परिक्रमा को किया स्थगित

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज