लाइव टीवी

Coronavirus alert के बावजूद CAA-NRC के खिलाफ धरने पर बैठी महिलायें, हटने को तैयार नहीं...
Allahabad News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 19, 2020, 4:26 PM IST
Coronavirus alert के बावजूद CAA-NRC के खिलाफ धरने पर बैठी महिलायें, हटने को तैयार नहीं...
Coronavirus के खौफ से अब कुर्सी पर बैठ कर धरना दे रही हैं महिलाएं

धरनारत महिलाओं का कहना है कि कोराना वायरस (Coronavirus) से खतरनाक उनके लिए सीएए, एनआरसी (NRC) और एनपीआर (NPR) है. मुस्लिम महिलाओं ने दो टूक शब्दों में कहा है कि चाहे सरकार और प्रशासन उन्हें कोराना (Covid-19) का कितना भी भय दिखाये, लेकिन वे अपने मकसद से पीछे नहीं हटेंगी.

  • Share this:
प्रयागराज. देश और दुनिया के कई देशों में फैले कोरोना वायरस (Coronavirus) की दहशत और खौफ के बीच एक तरफ लोगों को अहतियात बरतने और एक जगह पर एकत्रित होने से रोका जा रहा है. वहीं दिल्ली के शाहीनबाग (Shaheen Bagh) की तर्ज पर प्रयागराज (Prayagraj) के रोशन बाग इलाके में सीएए और एनआरसी के विरोध (CAA-NRC Protest) में मुस्लिम महिलाओं का धरना (Protest) अभी भी जारी है.

Covid-19 का खौफ नजर आ रहा है पर अपील बेअसर
बता दें कि मुस्लिम महिलायें पिछले 68 दिनों से सीएए और एनआरसी के विरोध में मंसूर अली पार्क में धरना दे रही हैं. कोरोना (Covid-19) को लेकर सरकार की अपील के बावजूद महिलायें धरने से पीछे हटने को कतई तैयार नहीं हैं. मुस्लिम महिलाओं का पहले की ही तरह मंसूर अली पार्क में चौबीसों घंटे धरना जारी है. हालांकि कोरोना को लेकर इनके मन में भी थोड़ा खौफ जरुर दिखायी दे रहा है. मुस्लिम महिलायें पहले जहां जमीन पर गद्दे बिछाकर धरना दे रही थीं. वहीं उन्होंने अब गद्दे समेट लिये हैं और कुर्सियों पर बैठकर धरना दे रही हैं.

तर्क और चेतावनी नहीं समझ आ रहे इन्हें



हांलाकि कोरोना की दहशत की वजह से महिलाओं की संख्या में कमी आयी है. लेकिन धरना दे रही बुर्कानशीं महिलाओं का कहना है कि कोराना वायरस से खतरनाक उनके लिए सीएए, एनआरसी (NRC) और एनपीआर (NPR) है. मुस्लिम महिलाओं ने दो टूक शब्दों में कहा है कि चाहे सरकार और प्रशासन उन्हें कोराना का कितना भी भय दिखाये, लेकिन वे अपने मकसद से पीछे नहीं हटेंगी. महिलाओं के साथ पार्क में छोटे-छोटे बच्चों को भी कोरोना का संक्रमण फैलने की आशंका को लेकर धरना दे रही महिलाओं का कहना है कि वे इतनी जागरुक हैं कि साफ-सफाई और अपना बचाव अच्छे तरह से कर सकती हैं. लेकिन कोरोना के भय से किसी भी तरह से धरना नहीं समाप्त करेंगी, चाहे वे कोरोना की चपेट में ही क्यों न आ जायें.

सीएए के खिलाफ धरना दे रही मुस्लिम महिलायें फिलहाल कोरोना को लेकर किसी तर्क और चेतावनी को सुनने और समझने को कतई तैयार नहीं हैं इस वजह से ये लगातार पुलिस-प्रशासन के लिए सरदर्द बनी हुई हैं. धरना दे रही महिलाओं का कहना है कि जब तक सरकार सीएए, एनआरसी और एनपीआर को वापस नहीं लेती है, वे धरने से पीछे नहीं हटेंगी. गौरतलब है कि मंसूर अली पार्क में सीएए और एनआरसी के खिलाफ 12 जनवरी से मुस्लिम महिलाओं का धरना लगातार जारी है.

ये भी पढ़ें- Coronavirus: दुधवा नेशनल पार्क समेत सभी टाईगर रिजर्व व वन्यजीव विहार बंद, ऑनलाइन रिफंड ले सकते हैं टूरिस्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 19, 2020, 4:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,000

     
  • कुल केस

    1,603,115

    +42
  • ठीक हुए

    356,422

     
  • मृत्यु

    95,693

    +1
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर