लाइव टीवी

मकर संक्रांति पर स्नान के लिए संगम नगरी पहुंचे लाखों श्रद्धालु, जाने कब है शुभ मुहूर्त...

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 14, 2020, 6:38 PM IST
मकर संक्रांति पर स्नान के लिए संगम नगरी पहुंचे लाखों श्रद्धालु, जाने कब है शुभ मुहूर्त...
मंगलवार आधी रात से शुरू होगा मकर संक्रांति का स्नान

स्वामी ब्रह्माश्रम महाराज के मुताबिक मकर संक्रांति (Makar sankranti) के मौके पर गंगा स्नान (holy bath) के समय तीन सावधानियां जरूर बरतनी चाहिए....वहीं माघ मेले के दूसरे स्नान पर्व मकर संक्रांति के मौके पर प्रशासन ने 80 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के संगम में आस्था की डुबकी लगाने का पूर्वानुमान लगाया है...

  • Share this:
प्रयागराज. मकर संक्रांति (Makar Sankranti) के स्नान पर्व के लिए तीर्थ राज प्रयाग (Prayag) में श्रद्धालुओं (devotees) के पहुंचने का क्रम शुरु हो गया है. मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त मंगलवार देर रात दो बजकर सात मिनट से शुरु होगा. दंडी स्वामी ब्रह्माश्रम महाराज के मुताबिक मकर संक्रांति के स्नान का पुण्यकाल अगले दिन यानि बुधवार को सुबह आठ बजकर इकत्तीस मिनट तक रहेगा.

कैसे मिलेगा स्नान का पुण्य
दंडी स्वामी के मुताबिक बुधवार की सुबह उदया तिथि में संगम में गंगा स्नान विशेष फलदायी होगा. मकर संक्रांति के स्नान पर्व के लिए साधु-सन्तों के साथ ही कल्पवासी जहां संगम की रेती पर पहले से ही मौजूद हैं. वहीं साधक भी मकर संक्रांति के स्नान पर्व के लिए तीर्थ राज प्रयाग पहुंच रहे हैं. स्वामी ब्रह्माश्रम महाराज के मुताबिक मकर संक्रांति के मौके पर गंगा स्नान के समय तीन सावधानियां जरुर बरतनी चाहिए. पहले स्नान करके गंगा में तीन बार डुबकी लगाये और तेल, तिल के साथ ही अपनी सामर्थ्य के मुताबिक धान्य का दान देना शुभ है. उनके मुताबिक मकर संक्रांति के पर्व पर गंगा स्नान से मनोकामनाओं की पूर्ति होगी और मनवांछित फल की प्राप्ति भी होगी.

80 लाख श्रद्धालुओं के संगम में डुबकी लगाने का अनुमान

मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर मेला प्रशासन ने अपनी सभी तैयारियां पूरी करने का दावा किया है. माघ मेले के दूसरे स्नान पर्व मकर संक्रांति के मौके पर प्रशासन ने 80 लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं के संगम में आस्था की डुबकी लगाने का अनुमान लगाया है. 2560 बीघे में बसाये गए माघ मेले को तीन जोन और सात सेक्टरों में बांटा गया है. इसके साथ ही मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पांच किलोमीटर के दायरे में छह स्नान घाट बनाये गए हैं. कुम्भ मेले की ही तर्ज पर स्नान घाटों पर डीप वाटर बैरिकेटिंग, जाल और घाटों पर रेत भरकर बोरियां लगायी गई हैं. इसके साथ ही स्नान के बाद घाटों पर निकलने वाले श्रद्धालुओं के लिए कांसा घास भी बिछायी गई है. जबकि महिलाओं के लिए सैकड़ों की तादात में स्नान घाटों पर चेंन्जिग रुम भी बनाये गए हैं. प्रशासन ने मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर सुरक्षा के भी पुख्ता इंतजाम का दावा किया है.

मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को देखते हुए पुलिस ने मेले में ट्रैफिल डायवर्जन भी लागू कर दिया है. मकर संक्रांति के स्नान पर्व को लेकर पूरे संगम क्षेत्र में चौकसी बढ़ा दी गई है. इसके साथ ही स्नान घाटों पर सुरक्षा के मद्देनजर जल पुलिस और गोताखोरों को भी तैनात कर दिया गया है. स्नान घाटों पर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को भी तैनात किया गया है. एसपी माघ मेला पूजा यादव के मुताबिक माघ मेला ड्यूटी पर आये पुलिस कर्मियों की ब्रीफिंग की गई है. इसके साथ ही मेले में बनाये गए अलग-अलग प्वाइंट्स पर पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है. मेले में सुरक्षा के लिए 13 थाने , 38 चौकियां और 13 फायर स्टेशन बनाये गए हैं. जबकि मेले की सुरक्षा में विभिन्न जिलों से बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स बुलायी गई है. मेले में सिविल पुलिस के साथ ही पीएसी और आरएफ को भी तैनात किया गया है. इसके साथ ही पूरे मेले की तीसरी आंख से निगरानी के लिए दो सौ सीसीटीवी कैमरे भी लगाये गए हैं. जबकि ड्रोन कैमरे से भी मेले पर पुलिस नजर रखेगी.

ये भी पढ़ें- शाहीन बाग की तर्ज पर प्रयागराज में मुस्लिम महिलाओं ने CAA-NRC के खिलाफ संभाली मोर्चे की कमान...

मकर संक्रांति विशेष: नेपाल की सुख-शांति के लिए गोरखनाथ को चढ़ाई जाती है खिचड़ी, जानिये क्या है पूरी कहानी....

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 14, 2020, 6:33 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर