इलाहाबाद में लेटे हनुमान जी ने किया गंगा स्नान, खोला गया मंदिर का कपाट

ऐसी मान्यता है कि हर बाढ़ में मां गंगा लेटे हनुमान मंदिर तक आती हैं और हनुमान जी को स्नान कराती हैं. लेटे हनुमान मंदिर के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी इसे हनुमान जी की शक्ति और मां गंगा की कृपा बताते हैं.

Manish Paliwal | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 15, 2018, 3:58 PM IST
इलाहाबाद में लेटे हनुमान जी ने किया गंगा स्नान, खोला गया मंदिर का कपाट
लेटे हनुमान मंदिर
Manish Paliwal | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 15, 2018, 3:58 PM IST
इलाहाबाद में संगम के पास बांध पर लेटे हनुमान जी को गंगा नदी स्नान करा देती है, उस वर्ष यहां कोई प्राकृतिक आपदा नहीं आती है. इस बार गंगा नदी का पानी लगातार तीन दिन तक बंधा वाले हनुमान जी को स्नान कराया है. शनिवार को पानी हटने के बाद मंदिर के कपाट खोल दिए गए. हनुमान जी का भव्य श्रृंगार और आरती के साथ मंदिर का कपाट खोला गया. संगम में आयी बाढ़ के बाद 9 सितंबर को हनुमान जी की आरती और पूजा अर्चना के बाद मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए थे.

बड़े हनुमान मंदिर के कपाट खुलने के बाद आज श्रद्धालुओं की भारी भीड़ मंदिर में उमड़ पड़ी है. मंदिर के कपाट खोले जाने से पहले मंदिर की साफ-सफाई की गई. ऐसी मान्यता है कि हर बाढ़ में मां गंगा लेटे हनुमान मंदिर तक आती हैं और हनुमान जी को स्नान कराती हैं. लेटे हनुमान मंदिर के महंत और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी इसे हनुमान जी की शक्ति और मां गंगा की कृपा बताते हैं.

हनुमान मंदिर की फोटो


महंत नरेन्द्र गिरी के मुताबिक भगवान राम के कहने पर ही हनुमान जी संगम में गंगा तट पर विश्राम करने पहुंचे थे. भगवान शंकर ने उन्हें आशीर्वाद दिया था कि गंगा जी कहीं भी रहेंगी लेकिन हर साल उन्हें स्नान कराने जरुर आयेंगी. महंत नरेन्द्र गिरी के मुताबिक अगर मां गंगा किसी वर्ष हनुमान जी को स्नान कराने नहीं आती हैं तो अगले वर्षों में कई बार स्नान कराकर उस कमी को पूरा भी कर देती हैं. ऐसा वर्ष 2013 में भी हो चुका है.

यह भी पढ़ें:

योगी सरकार के परिवहन मंत्री ने झाड़ू लगाकर की साफ-सफाई

रावण Exclusive: 'जेल में 8 महीने इलाज नहीं कराया गया, समाज नहीं होता तो घर बिक जाता'
Loading...
सीतापुर: कोतवाल समेत कई पुलिसकर्मियों पर दर्ज हुआ हत्या का केस
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर