लाइव टीवी

माघ मेला: विहिप के सम्मलेन में राम मंदिर निर्माण की तारीख का हो सकता है बड़ा ऐलान !

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 16, 2020, 8:05 PM IST
माघ मेला: विहिप के सम्मलेन में राम मंदिर निर्माण की तारीख का हो सकता है बड़ा ऐलान !
प्रयागराज के माघ मेले में VHP की अहम बैठक होगी

विहिप (VHP) के शिविर में होने वाली बैठक में देश में समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) लागू करने, जनसंख्या नियंत्रण के लिए राष्ट्रीय जनसंख्या नीति (National population policy) लाये जाने के साथ ही भारतीय संस्कृति को बचाने और गंगा व गाय के मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी.

  • Share this:
प्रयागराज. अयोध्या राम मंदिर (Ayodhya Ram Temple) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) का फैसला आने के बाद पहली बार माघ मेले (Magh Mela) में विश्व हिंदू परिषद (VHP) की ओर से 20 और 21 जनवरी को बड़ा आयोजन होने जा रहा है. विश्व हिंदू परिषद के शिविर में 20 जनवरी को विहिप केन्द्रीय मार्ग दर्शक मंडल की अहम बैठक होने जा रही है. जिसमें कई प्रस्ताव पास किए जायेंगे. तो वहीं इन प्रस्तावों पर मुहर अगले दिन यानि 21 जनवरी को होने वाले संत सम्मेलन में लगेगी.

ऐसा माना जा रहा है कि राम मंदिर का फैसला आने के बाद संत समाज की ओर से राम मंदिर निर्माण की तारीख का भी बड़ा ऐलान हो सकता है. इसके साथ ही दो दिनों तक विहिप के शिविर में होने वाली बैठक में देश में समान नागरिक संहिता (Uniform Civil Code) लागू करने, जनसंख्या नियंत्रण के लिए राष्ट्रीय जनसंख्या नीति (National population policy) लाये जाने के साथ ही भारतीय संस्कृति को बचाने और गंगा व गाय के मुद्दों पर भी चर्चा की जाएगी.

CAA व राष्ट्रीय जनसंख्या नीति पर भी होगी चर्चा
माघ मेले में लगे वीएचपी के शिविर में 20 व 21 जनवरी को दो दिवसीय बैठक होने जा रही है. विहिप के शिविर में 20 जनवरी को केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल की अहम बैठक होने जा रही है. अभी तक कुम्भ के दौरान ही केन्द्रीय मार्ग दर्शक मंडल की बैठकों की परम्परा रही है. लेकिन राम मंदिर के फैसले से उत्साहित साधु-संत और विहिप के पदाधिकारियों ने इस बार माघ मेले में केन्द्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक करने का बड़ा फैसला लिया है. माना जा रहा है कि इस बैठक के जरिए ही राम मंदिर निर्माण में विश्व हिन्दू परिषद अपनी भूमिका को और अधिक स्पष्ट करेगा. इसके साथ ही राम मंदिर आंदोलन की लम्बे समय तक लड़ाई लड़ने के बाद आये फैसले को लेकर मंदिर निर्माण की तारीख का भी बड़ा फैसला लिया जा सकता है.

VHP, Pryagraj, Magh Mela
विश्व हिंदू परिषद इन विषयों पर करेगी विचार


वहीं 21 जनवरी को संत सम्मेलन भी आयोजित किया गया है. जिसमें देशभर के करीब दो हजार प्रमुख संत एवं धर्माचार्यों को बुलाया गया है. इस दौरान संतों की मौजूदगी में मंदिर निर्माण के लिए तिथि की घोषणा भी हो सकती है. साथ ही मंदिर निर्माण के लिए गठित होने वाले ट्रस्ट की रूपरेखा भी तय की जाएगी. इसके साथ ही इस दौरान देश में समान नागरिक संहिता लागू करने, जनसंख्या नियंत्रण कानून बनाने पर भी साधु संत विचार विमर्श करेंगे. विहिप के केन्द्रीय मंत्री अशोक तिवारी के मुताबिक जनसंख्या असंतुलन बहुत बड़ी समस्या है, इसे रोकना बेहद जरूरी है. इससे देश का विकास और सुरक्षा दोनों प्रभावित हो रहे हैं. इसके साथ ही सीएए और एनआरसी (CAA-NRC) पर भी संत सम्मेलन में चर्चा हो सकती है.

सीएम योगी समेत दो हजार संतों को विहिप का न्यौताविहिप के शिविर में 21 जनवरी को होने वाले संत सम्मेलन के लिए देशभर के लगभग दो हजार संत-महात्माओं को न्यौता भेजा गया है. इसमें वीएचपी के साथ ही बजरंग दल के बड़े पदाधिकारी भी शामिल होंगे. वीएचपी की ओर से 21 जनवरी को आयोजित संत सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी बतौर गोरक्षपीठाधीश्वर शिरकत कर सकते हैं. सम्मेलन में शामिल होने के लिए वीएचपी की ओर से उन्हें आमंत्रित भी किया गया है.

संत सम्मेलन में जूना पीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि, नृत्य गोपाल दास, साध्वी ऋतंभरा के साथ ही श्रीराम जन्मभूमि, श्री कृष्ण जन्मभूमि, काशी विश्वनाथ समेत सभी ज्योर्तिलिंगों के पुजारियों व पदाधिकारियों को भी बुलाया गया है. वहीं प्रमुख अखाड़ों के सभी प्रमुख संत भी इसमें शिरकत करेंगे. विहिप के प्रांत संगठन मंत्री मुकेश कुमार के मुताबिक इस बैठक के लिए लगभग सभी तैयारियां भी पूरी कर ली गई हैं. यह पहला मौका है जबकि कुम्भ के बजाय माघ मेले में विहिप के केन्द्रीय मार्ग दर्शक मंडल की बैठक होने जा रही है. दरअसल राम मंदिर का फैसला पक्ष में आने के बाद पहली बार विहिप के शिविर से राम मंदिर निर्माण की रुपरेखा तय होने जा रही है. अब तक राम मंदिर आन्दोलन और कारसेवा के लिए ही यहां से रणनीति तय होती रही है.

ये भी पढ़ें- क्राइम पेट्रोल देख छोटी बच्चियों ने रची अपहरण की झूठी कहानी, अयोध्या पुलिस के भी छूटे पसीने!

ये भी पढ़ें- शाहीन बाग की तर्ज पर प्रयागराज में मुस्लिम महिलाओं ने CAA-NRC के खिलाफ संभाली मोर्चे की कमान...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 7:03 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर