होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayagraj News : नैनी जेल में बंद कैदी तनाव प्रबंधन के सीखेंगे गुर, मनोचिकित्सक की टीम लगाएगी कैंप

Prayagraj News : नैनी जेल में बंद कैदी तनाव प्रबंधन के सीखेंगे गुर, मनोचिकित्सक की टीम लगाएगी कैंप

केंद्रीय कारागार नैनी में उपस्थित चिकित्सकों की टीम.

केंद्रीय कारागार नैनी में उपस्थित चिकित्सकों की टीम.

अब नैनी जेल में बंदियों के लिए मनोचिकित्सक और मनोवैज्ञानिकों की टीम पहुंचेगी. प्रत्येक माह दो दिन नैनी जेल में मानसिक ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – अमित सिंह

प्रयागराज स्थित केंद्रीय कारागार नैनी में बंद कैदियों के लिए अच्छी खबर है. अब उन्हें तनाव प्रबंधन के गुर सिखाए जाएंगे. महीने में दो दिन के लिए मनोचिकित्सक की टीम उन्हें अच्छे स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करेगी. जनपद पर लगातार मानसिक स्वास्थ्य को लेकर विभिन्न स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम किए जाते हैं.

अब नैनी जेल में बंदियों के लिए मनोचिकित्सक और मनोवैज्ञानिकों की टीम पहुंचेगी. प्रत्येक माह दो दिन नैनी जेल में मानसिक स्वास्थ्य और तनाव प्रबंधन को लेकर कैदियों को जागरूक किया जाएगा. ग्रुप थेरेपी के जरिए उन्हें मानसिक रूप से स्वस्थ रहने के बारे में बताया जाएगा. जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम नोडल अधिकारी डॉक्टर राजेश कुमार के नेतृत्व में केंद्रीय कारागार नैनी पहुंची थी. यहां बंदियों को मन से स्वस्थ रहने पर फोकस किया गया. साथ ही यह निर्णय लिया गया.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

दवाइयों की अहम भूमिका

केल्विन अस्पताल में कार्यरत मनोचिकित्सक डॉ. राकेश कुमार पासवान ने जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम द्वारा मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों में दवाइयों की अहम भूमिका पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि दवाइयों से मानसिक परेशानी से ग्रसित व्यक्ति जब ठीक होता है तो दवाइयां छोड़ देता है.जिसके कारण उसके अंदर यह लक्षण दोबारा से उत्पन्न हो जाते हैं और फिर से वह मानसिक परेशानी का शिकार होने लगता है. इसलिए सलाह है कि दवाइयां भी मानसिक परेशानी के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.इसे जब तक चिकित्सक ना कहे तब तक रोज लेते रहे. वही नैदानिक मनोवैज्ञानिक ईशाना राज ने भी डिप्रेशन से संबंधित कई टिप्स कैदियों को दिए.

मानसिक परेशानियां

डॉ. वेद प्रकाश द्वारा बताया गया कि किस तरीके से शारीरिक परेशानी और मानसिक परेशानियां आपस में संबंधित होती हैं.व्यक्ति के पूर्ण विकास में सही समय पर इलाज ना करने से बाधा उत्पन्न करते हैं. वरिष्ठ जेल अधीक्षक शशिकांत सिंह ने कार्यक्रम में सभी के प्रति आभार जताया.

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें