लाइव टीवी

सपा नेता के भाई की हत्या के दोषी पूर्व मंत्री हीरालाल गौतम को आजीवन कारावास
Azamgarh News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 20, 2020, 10:47 PM IST
सपा नेता के भाई की हत्या के दोषी पूर्व मंत्री हीरालाल गौतम को आजीवन कारावास
कोर्ट के फैसले के बाद पूर्व मंत्री के परिजनों ने कहा कि वे हाईकोर्ट में अपील करेंगे. (फाइल फोटो)

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेता के भाई की गोली मारकर हत्या करने के दोषी पूर्व मंत्री को कोर्ट ने आजीवन कारावास (Life Imprisonment) की सजा दी है. उनके परिजनों ने कहा है कि वे हाईकोर्ट में अपील करेंगे.

  • Share this:
आजमगढ़. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के नेता के भाई की गोली मारकर हत्या करने के दोषी पूर्व मंत्री को अदालत ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है. प्रयागराज की स्पेशल एमपी-एमएलए कोर्ट ने बसपा सरकार में मंत्री रहे हीरालाल गौतम (Heeralal Gautam) सहित तीन आरोपियों को आजीवन कारावास (Life Imprisonment) की सजा सुनाई है. इन सभी लोगों पर सपा नेता हेमराज पासवान के भाई फौजदार पासवान की गोली मार कर हत्या का आरोप सिद्ध हुआ है. वहीं कोर्ट के फैसले के बाद पूर्व मंत्री के परिजनों ने कहा कि वे हाईकोर्ट में अपील करेंगे.

पूर्व मंत्री के साथ दो और दोषियों को सुनाई गई सजा
प्रयागराज की स्पेशल कोर्ट एमपी-एमएल के जज डॉ. बालमुकुंद ने विशेष लोक अभियोजक वीरेन्द्र सिंह गोपाल और एसपीओ जय गोविंद उपाध्याय और वादी के अधिवक्ता अविनाश चन्द पांडेय को सुनने के बाद अदालत ने 17 जनवरी को पूर्व मंत्री हीरालाल के साथ ही शिवकुमार और इंद्रभान उर्फ इंदू को भी हत्या का दोषी करार दिया था. जज ने सोमवार को सजा का ऐलान किया. सोमवार की शाम अदालत ने इस मामले में दोषी पूर्व मंत्री हीरालाल सहित तीनों दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई.

मृतक पूर्व मंत्री की पत्नी के खिलाफ लड़ रहा था चुनाव

कोर्ट के फैसले के बाद पूर्व मंत्री के परिजनों ने हाईकोर्ट में अपील करने का फैसला किया है. पूर्व मंत्री के प्रतिनिधि आलोक पाठक ने बताया कि वर्ष 2010 में पूर्व मंत्री की पत्नी कमलावती देवी के खिलाफ मृतक फौजदार पासवान ब्लाक प्रमुख का चुनाव लड़ रहे थे. इसी बीच अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर फौजदार पासवान की हत्या कर दी. इस घटना में राजनीतिक रंजिश के कारण पूर्व मंत्री को नामजद कर दिया गया, जबकि पुलिस विवेचना में उनकी संलिप्तता नहीं पाई गई और इनको मुकदमे से बाहर कर दिया गया. कोर्ट ने 2015 में 319 सीआरपीसी के तहत मुकदमे में उनका नाम शामिल कर लिया और सोमवार को पूर्व मंत्री को सजा सुना दी गई. उन्होंने बताया कि, ‘कोर्ट के फैसले से हम संतुष्ट नहीं हैं और हाईकोर्ट में न्याय के लिए अपील करेंगे और कोर्ट पर हमें पूरा भरोसा है, हमें न्याय मिलेगा.’

ये भी पढ़ें - 

यूपी में महिला ने 4 हाथ और 4 पैर वाले बच्चे को दिया जन्मनिर्भया गैंगरेप: दोषी पवन की याचिका खारिज, पीड़िता के पिता हुए खुश, कही ये बात 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए आजमगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 9:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर