पूर्व विधायक पवन पांडेय ने अदालत में किया समर्पण, भेजे गए जेल

अपराधियों का सहयोग व शरण देने में पूर्व विधायक का नाम सामने आया. इसके बाद पवन पांडेय के खिलाफ धारा 216 के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 2, 2019, 10:56 PM IST
पूर्व विधायक पवन पांडेय ने अदालत में किया समर्पण, भेजे गए जेल
पवन पांडेय के खिलाफ धारा 216 के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई थी. (Demo Pic)
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 2, 2019, 10:56 PM IST
बाबरी मस्जिद विध्वंस में चर्चा में आये पूर्व विधायक पवन पांडेय ने एक मामले में अदालत के समक्ष समर्पण किया है. प्रयागराज स्थित विशेष एमपी एमएलए कोर्ट के जज पवन कुमार तिवारी ने विधायक को न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है. विशेष जज ने इस मामले की अगली सुनवाई की तरीख 27 अगस्त को निश्चि की है.

दरअसल मामला यूपी की राजधानी लखनऊ के हज़रतगंज थाने का है. 29 अक्टूबर 1995 को विजय कुमार यादव ने थाने में अपने पिता लक्ष्मी शंकर यादव की हत्या की रिपोर्ट लिखाई थी. रिपोर्ट में पूर्व मंत्री अंगत यादव, रामेढ कालिया, सूरज पाल तथा कुछ अज्ञात लोगों को हत्या का आरोपी बनाया गया था.

पूर्व विधायक ने अपराधियों को दी शरण
हालांकि पवन पाडेय का नाम इस एफआईआर में नहीं था, लेकिन बाद में विवेचना में अपराधियों का सहयोग व शरण देने में पूर्व विधायक का नाम सामने आया. इसके बाद पवन पांडेय के खिलाफ धारा 216 के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई. जबकि अन्य को भारतीय दंड संहिता की धारा 147, 148, 149, के अंतर्गत आरोपित किया गया.

जमानत के बाद नहीं हुए हाजिर
उपरोक्त मामले में जमानत कराने के बाद पवन पाडेय कभी न्यायालय के समक्ष हाजिर नहीं हुए. जिसके चलते पूर्व विधायक के खिलाफ 2001 में गैर जमानती वारंट जारी किया गया.  हालांकि पवन पाण्डे की तरफ से अदालत में पक्ष रखा गया कि उनके अधिवक्ता गोविंद नारायण मिश्र जो 2001 में एमएलए हो गए और बाद में मिनिस्टर. इस कारण उन्हें मुकद्दमे की जानकारी नहीं हो सकी.

न्यायालय ने उनकी इस याचिका को खारिज करते हुए जेल भेजे जाने का आदेश दिया. साथ ही जेल मैन्युअल के अनुसार पवन पाडेय को सुविधा दिए जाने का भी आदेश किया. सरकार की ओर से अपर जिला शासकीय अधिवक्ता राजेश गुप्ता ने पक्ष रखते हुए ज़मानत का विरोध किया.
Loading...

ये भी पढ़ें: 
First published: July 2, 2019, 9:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...