होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayagraj: संगम नगरी में गंगा-यमुना उफान पर, अब तक हजारों लोग बेघर

Prayagraj: संगम नगरी में गंगा-यमुना उफान पर, अब तक हजारों लोग बेघर

Flood in Prayagraj: ड्रोन कमरे से ली गई तस्वीरों में दिख रही बाढ़ की भयावहता

Flood in Prayagraj: ड्रोन कमरे से ली गई तस्वीरों में दिख रही बाढ़ की भयावहता

Flood in Prayagraj: स्वास्थ्य विभाग भी मुस्तैदी से लोगों की मदद कर रहा है, लेकिन बावजूद इसके लोगों की मुश्किलें कम होने ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अभी 2 दिन और गंगा और यमुना नदियों का जलस्तर बढ़ने की उम्मीद
जिन सड़कों पर मोटर गाड़ियां फर्राटा भरती थी, वहां अब नावें चल रही हैं

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज में गंगा और यमुना दोनों नदियां उफान पर हैं. गंगा और यमुना दोनों नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. दर्जनों गांव और कछारी मोहल्लों में पानी भर गया है. गंगा और यमुना नदियां में आई बाढ़ ने जमकर तबाही मचाई है. अब तक हजारों लोग बेघर हो चुके हैं. लोग अपने सामानों को छोड़कर प्रशासन के बाढ़ राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं. अब तक करीब 6 हजार लोग बाढ़ राहत शिविरों में पहुंच चुके हैं. बचाव और राहत के लिए एनडीआरएफ की टीमें लगाई गई हैं.

स्वास्थ्य विभाग भी मुस्तैदी से लोगों की मदद कर रहा है, लेकिन बावजूद इसके लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है. क्योंकि अभी गंगा और यमुना नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. प्रशासनिक अधिकारियों की मानें तो जिस तरह से मध्य प्रदेश और उत्तराखंड के बांधों से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है, अभी 2 दिन और गंगा और यमुना नदियों का जलस्तर बढ़ने की उम्मीद है. इसके बाद भी करीब एक हफ्ते तक इसी तरह जलस्तर बने रहने की उम्मीद है. जिसको देखते हुए प्रशासन ने तैयारी की है.

सड़कों पर चल रही नाव
एनडीआरएफ की टीम बाढ़ में फंसे लोगों का रेस्क्यू कर रही हैं. छोटा बघाड़ा इलाके में गलियों मोहल्लों में पानी भरा हुआ है. जिन सड़कों पर मोटर गाड़ियां फर्राटा भरती थी, वहां अब नावें चल रही हैं. बघाड़ा इलाके में ड्रोन कैमरे से ली गई कुछ तस्वीरें जो न्यूज़18 के पास एक्सक्लूसिव मौजूद है, जिसको देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि बाढ़ की भयावहता कितनी ज्यादा है और लोगों के सामने किस तरह की मुसीबतें खड़ी हो गई है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

Tags: Prayagraj Flood, UP latest news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें