अपना शहर चुनें

States

सुरक्षा की मांग लेकर आए 'मियां-बीबी' से HC ने पूछा- शादीशुदा हैं या नहीं? जानिए क्या है पूरा मामला

इलाहाबाद हाईकोर्ट
इलाहाबाद हाईकोर्ट

हरदोई (Hardoi) की प्रज्ञा सिंह व बरेली (Bareilly) के मेराज अली ने ये याचिका दाखिल की है. याचिका में कहा गया है कि दोनों सरकारी नौकरी में रहते हुए 2012 से लिव-इन-रिलेशन में रह रहे हैं. उनकी मांग है कि उनके शांतिपूर्ण जीवन में विपक्षियों के हस्तक्षेप करने पर रोक लगाई जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2020, 7:05 AM IST
  • Share this:
प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) में सुरक्षा के लिए गुहार लगाने आए मियां-बीवी से हाईकोर्ट ने पूछा है कि शादीशुदा हैं या नहीं? हाईकोर्ट ने पूछा कि लिव-इन-रिलेशन (Live-in-Relation) में है तो सरकारी नौकरी की सेवा शर्ते क्या हैं? मामले में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से सर्विस रिकार्ड सहित एक हफ्ते में जवाब मांगा है. साथ ही हाईकोर्ट ने याचियों से भी पूरक हलफनामा मांगा है. मामले की अगली सुनवाई 7 दिसम्बर को होगी.

2012 से लिव-इन-रिलेशन में रह रहे
हरदोई की प्रज्ञा सिंह और बरेली के मेराज अली ने ये याचिका दाखिल की है. याचिका में कहा गया है कि दोनों सरकारी नौकरी में रहते हुए 2012 से लिव-इन-रिलेशन में रह रहे हैं. एसपी बरेली को लिखे पत्र में याची ने स्वयं को दूसरे याची की पत्नी बताया है, याचिका में नहीं लिखा कि वे अविवाहित हैं.

सुरक्षा की लगाई गुहार
प्रज्ञा सिंह और मेराज अली ने याचिका में मांग की है कि उनके शांतिपूर्ण जीवन में विपक्षियों के हस्तक्षेप करने पर रोक लगाई जाए. उन्हें सुरक्षा दी जाए. मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस एसपी केशरवानी और जस्टिस डॉ वाईके श्रीवास्तव की खंडपीठ ने आदेश दिया है. कोर्ट ने याची को दूसरे याची की पत्नी बताने पर और याचिका में अविवाहित नहीं लिखने पर सवाल किया कि शादीशुदा हैं या नहीं?



 7 दिसम्बर को अगली सुनवाई
हाईकोर्ट ने पूछा कि लिव-इन-रिलेशन में है तो सरकारी नौकरी की सेवा शर्ते क्या हैं? मामले में हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से सर्विस रिकार्ड सहित एक हफ्ते में जवाब मांगा है. साथ ही हाईकोर्ट ने याचियों से भी पूरक हलफनामा मांगा है. मामले की अगली सुनवाई 7 दिसम्बर को होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज