COVID-19: रैपिड किट से होगी कोरोना संदिग्धों की जांच, 1 घंटे में आएगी रिपोर्ट
Allahabad News in Hindi

COVID-19: रैपिड किट से होगी कोरोना संदिग्धों की जांच, 1 घंटे में आएगी रिपोर्ट
कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं (सांकेतिक तस्वीर)

राज्य सरकार ने कोरोना की जांच के लिए जर्मनी और बेल्जियम (Germany and Belgium) से ये जांच किटें मंगवाई हैं. यूपी सरकार ने प्रदेश के पांच जिलों को रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन किट (Rapid Antigen Detection Kit) से कोरोना जांच के लिए चिह्नित किया है.

  • Share this:
प्रयागराज. संगम नगरी (Sangamnagari) प्रयागराज (Prayagraj) में गुरुवार से  रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन किट (Rapid Antigen Detection Kit) से कोरोना (coronavirus) के संदिग्ध मरीजों की जांच की जाएगी. स्वास्थ्य विभाग इस रैपिड किट के जरिए कोरोना संदिग्धों की जांच करेगा. इसके लिए सीएमओ कार्यालय में आज चिकित्सकों को ट्रेनिंग भी दी गई है. राज्य सरकार ने कोरोना की जांच के लिए जर्मनी और बेल्जियम (Germany and Belgium) से कोरोना की जांच किटें मंगवाई हैं. यूपी सरकार ने प्रदेश के पांच जिलों को रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन किट से कोरोना जांच के लिए चिह्नित किया है. जिसमें प्रयागराज को भी शामिल किया गया है.

कम्यूनिटी ट्रांसमिशन का खतरा भी काफी कम होगा
सीएमओ प्रयागराज डॉ. जीएस बाजपेयी के मुताबिक रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन किट से एक घंटे में कोरोना की जांच रिपोर्ट आ जाएगी. टेस्ट किट से जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर कोरोना संक्रमित मरीज को जहां कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा. वहीं रिपोर्ट निगेटिव आने पर दोबारा लैब से जांच कराकर पुष्टि की जाएगी. सीएमओ के मुताबिक जिले में रैपिड एंटीजेन डिटेक्शन किट से जांच शुरू हो जाने से जहां कोरोना संक्रमितों की पहचान जल्द हो सकेगी. वहीं कोरोना संक्रमितों को कोविड अस्पताल (Covid-19 Hospital) में भर्ती कराने से कोरोना के कम्यूनिटी ट्रांसमिशन (Community Transmission) का खतरा भी काफी कम होगा.

लगातार बढ़ रहे मामले
बता दें कि प्रयागराज में कोरोना के मामले काफी तेज़ी से बढ़ते जा रहे हैं. हालांकि इसके साथ ही कोरोना की जांच में भी तेजी लायी जा रही है. प्रयागराज में अब तक 15 हजार से ज्यादा कोराना संदिग्धों के सैंपल की जांच हो चुकी है. इसके साथ ही जिले के तीन अस्पतालों में ट्रू नाट मशीनों से कोरोना की जांच की सुविधा शुरू कर दी गई है. प्रयागराज के मोती लाल नेहरू, काल्विन अस्पताल, रेलवे अस्पताल और मेडिकल कालेज में ट्रू नाट मशीनों के जरिए कोरोना की जांच करायी जा रही है. लेकिन बीते दो दिनों में 17 नये पॉजिटिव मरीज सामने आने से जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या दो सौ का आंकड़ा पार कर गई है. दो दिनों जो 17 पॉजिटिव केस सामने आए हैं, उनमें 13 पुलिस कर्मियों में से 10 जीआरपी के जवान हैं, जबकि एक आरपीएफ का जवान शामिल है. इसके अलावा दो कांस्टेबल सिविल पुलिस के भी हैं. इन सभी को कोविड-19 के लेवल वन अस्पताल में भर्ती कराया गया है.



प्रयागराज में इससे पहले पूर्व एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज और उनका गनर भी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. हालांकि पूर्व एसएसपी की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद मंगलवार शाम उन्हें कोविड लेवल थ्री एसआरएन अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है. प्रयागराज में कोरोना संक्रिमतों की संख्या अब बढ़कर 206 हो गई है. जबकि जिले में कोरोना के 52 केस एक्टिव हैं. अब तक जिले में 147 मरीजों की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद डिस्चार्ज होकर घर जा चुके हैं.

ये भी पढ़ें- एक करोड़ नौकरी देने पर समाजवादी पार्टी का योगी सरकार पर तंज, किया ये Tweet

पिछले दस दिनों में जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है. लेकिन सीएमओ डॉ. जीएस बाजपेयी का कहना है कि यहां रिकवरी रेट भी उसी अनुपात में बढ़ रहा है. तकरीबन सत्तर फीसदी मरीज ठीक होकर अपने घरों को वापस जा चुके हैं. सात लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है, जबकि बाकी अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं. सीएमओ के मुताबिक फिलहाल जिले में कोरोना के कम्यूनिटी स्प्रेड नहीं हो रहा है. दरअसल प्रयागराज में दस दिन पहले ही जीआरपी के तीन जवानों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई थी. ये सभी उन्हीं के संपर्क में आए थे. अभी पैंतालीस के करीब सिपाहियों की रिपोर्ट आनी बाकी है. सिविल पुलिस से पॉजिटिव आए एक कांस्टेबल की ड्यूटी क्वारंटाइन सेंटर में लगी हुई थी.

कहा जा सकता है कि प्रयागराज में अब कोरोना योद्धाओं पर भी यह वायरस तेजी से अटैक कर रहा है. कोरोना के पूर्व नोडल अधिकारी एसीएमओ डॉ. गणेश प्रसाद और उनके परिवार के छह सदस्य भी कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. प्रयागराज में हाईकोर्ट के एक रिटायर जज के बेटे की भी जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आयी है. सीएमओ ने लोगों से कोरोना की रोकथाम के लिए गाइड लाइन का सख्ती से पालन करने की अपील की है. सीएमओ के मुताबिक कोरोना का संक्रमण बढ़ने पर अभी तक की तैयारी के मुताबिक साढ़े तीन हजार मरीजों को भर्ती करने की व्यवस्था कर ली गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज