लाइव टीवी

'श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' में शामिल किए जाने पर जगतगुरु स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने जतायी खुशी
Allahabad News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 5, 2020, 9:26 PM IST
'श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' में शामिल किए जाने पर जगतगुरु स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने जतायी खुशी
स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा जनता के पैसे ही अयोध्या में बनेगा भव्य राम मंदिर

स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती (Jagatguru Swami Vasudevanand Saraswati) ने कहा है कि राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए आम लोगों से सवा रुपए से लेकर 11 रुपए तक का सहयोग भी लिया जाएगा...

  • Share this:
प्रयागराज. अयोध्या (Ayodhya) में भव्य राम मंदिर (Ram Mandir) निर्माण के लिए पीएम मोदी (PM Modi) ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra Trust) की घोषणा कर दी है. इस ट्रस्ट में जगतगुरु स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती (Swami Vasudevanand Saraswati) को भी शामिल किया गया है. राम मंदिर ट्रस्ट में शामिल किए जाने पर स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने खुशी जताई है. उन्होंने कहा है कि अयोध्या में जनता के पैसे से ही भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा.

विहिप के मॉडल पर होगा राम मंदिर का निर्माण
उन्होंने बताया कि अब तक जनता से इकट्ठा किए गए 30 करोड़ से ज्यादा की धनराशि मंदिर निर्माण के लिए पत्थर तराशने पर खर्च हो चुकी है. जबकि एक करोड़ 9 हजार अभी भी राम जन्मभूमि न्यास के खाते में धनराशि बची है. उन्होंने कहा कि बची हुई यह धनराशि भी मंदिर निर्माण के लिए नव गठित ट्रस्ट को सौंप दी जायेगी.

राम मंदिर निर्माण कब तक शुरू होगा के प्रश्न पर उन्होंने कहा कि हिन्दू नव वर्ष से लेकर हनुमान जयंती तक शुरु हो सकता है मंदिर का निर्माण कार्य जिसका निर्माण विहिप के मॉडल पर ही किया जाएगा. स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा है कि विहिप के प्रस्तावित मॉडल पर ही जन आकांक्षाओं के अनुरुप अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा. उन्होंने कहा है कि हिंदू नव वर्ष के प्रारम्भ से लेकर हनुमान जयंती के बीच मंदिर का निर्माण कार्य प्रारम्भ हो सकता है. स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा है कि मंदिर निर्माण के लिए आम लोगों से सवा रुपए से लेकर 11 रुपए तक का सहयोग भी लिया जाएगा. लेकिन किसी व्यक्ति विशेष के पैसे से राम मंदिर का निर्माण नहीं किया जायेगा. हम आपको बता दें कि स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती विहिप से जुड़े धर्म गुरु हैं और राम मंदिर आंदोलन में 1984 से ही सक्रिय भी रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 'श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट' के गठन का साधु-संतों ने किया स्वागत

 

कांग्रेस सेवा दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष बोले- विनायक दामोदर सावरकर ने 11 बार मांगी थी अंग्रेजों से माफ़ी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 9:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर