होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Karwa Chauth In Prayagraj: करवा चौथ को लेकर बाजारों में बढ़ी रौनक, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

Karwa Chauth In Prayagraj: करवा चौथ को लेकर बाजारों में बढ़ी रौनक, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

करवा चौथ का व्रत सुखी दांपत्य जीवन और अखंड सौभाग्य के लिए होता है.

करवा चौथ का व्रत सुखी दांपत्य जीवन और अखंड सौभाग्य के लिए होता है.

karwachauth Muhurat Prayagraj: करवा चौथ के व्रत को लेकर संगम नगरी प्रयागराज के बाजारों में खासी रौनक देखी जा रही है. बा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

इस साल गुरुवार 13 अक्टूबर को करवा चौथ का पर्व मनाया जाएगा.
करवा चौथ के व्रत को लेकर संगम नगरी प्रयागराज के बाजारों में खासी रौनक देखी जा रही है.
बड़ी संख्या में सुहागिन महिलाएं अपने हाथों में मेहंदी भी रचा रही हैं.

प्रयागराज: पति की लंबी उम्र की कामना को लेकर सुहागिनों करवा चौथ का व्रत रखती हैं. इस साल गुरुवार 13 अक्टूबर को करवा चौथ का पर्व मनाया जाएगा. करवा चौथ के व्रत को लेकर संगम नगरी प्रयागराज के बाजारों में खासी रौनक देखी जा रही है. बाजार में जहां दुकानों पर महिलाएं करवा और पूजन सामग्री की खरीदारी में जुटी हैं. वहीं बड़ी संख्या में सुहागिन महिलाएं अपने हाथों में मेहंदी भी रचा रही हैं.

हाथों में मेंहदी रचा रही कामिनी बताती हैं कि करवा चौथ के व्रत में सुहागिनें निर्जला व्रत रखकर अपने पति की लंबी उम्र की कामना करती हैं. शाम को शुभ मुहूर्त में सुहागिनें सोलह श्रृंगार कर चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं. ऐसी मान्यता है कि सच्चे मन से करवा चौथ का व्रत रखने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

जानें करवा चौथ का मुहूर्त 

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

ग्रह नक्षत्रम ज्योतिष शोध संस्थान की ज्योतिषाचार्य गुंजन वार्ष्णेय के मुताबिक करवा चौथ का मुहूर्त 13 अक्टूबर की रात 7 बजकर 55 मिनट पर है. उनके मुताबिक चंद्रोदय के बाद सुहागिन महिलाएं चन्द्रमा को अर्घ्य देकर व्रत को पूर्ण करती हैं. तान्या बताती हैं कि करवा चौथ में छलनी से चांद देखे जाने की भी परंपरा है. सुहागिनें छलनी से पति को देखने और पति के हाथों जल ग्रहण कर व्रत का परायण करती हैं. ज्योतिषाचार्य गुंजन वार्ष्णेय के मुताबिक ऐसी भी मान्यता है कि करवा की टोंटी से जल निकलने के बाद ही सर्दियों के मौसम की भी शुरुआत होती है.

लक्ष्मी नारायण मंदिर में दर्शन-पूजन का विशेष महत्व

ऐसी भी मान्यता है कि सुहागिनें जब चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं तो मन शांत हो जाता है. और सभी कार्य पूरे होते चले जाते हैं. ज्योतिषाचार्य गुंजन वार्ष्णेय के मुताबिक इस बार करवा चौथ पर अगर सुहागिन महिलाएं अपने पति के साथ लक्ष्मी नारायण मंदिर में जाकर दर्शन पूजन करती हैं तो उनके जीवन में सामंजस्य बढ़ेगा और विघ्न बाधाएं भी दूर होंगी.

Tags: Karwachauth, Prayagraj News, UP news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें