• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • जानिए त्रेता युग में प्रभु श्री राम का प्रयागराज के किस आश्रम में हुआ था दो बार आगमन 

जानिए त्रेता युग में प्रभु श्री राम का प्रयागराज के किस आश्रम में हुआ था दो बार आगमन 

प्रयागराज

प्रयागराज में स्थित ऋषि भरद्वाज का आश्रम

प्रयागराज में स्थित है बेहद प्राचीन और धार्मिक भरद्वाज आश्रम. यह आश्रम ऋषि भरद्वाज की साधना से और भगवान श्री राम के चरण कमलों से पवित्र हो गया था.

  • Share this:

    आस्था की नगरी प्रयागराज में ऐसे अनेक स्थान हैं, जो बताते हैं कि इस धरती का अध्यात्म और धर्म से नाता बहुत पुराना है.ऐसे बहुत से स्थानों में से एक बेहद प्राचीन और धार्मिक स्थान है भरद्वाज आश्रम. यह कर्नलगंज में स्थित है, जो ऋषि भरद्वाज मुनि के ध्यान का केंद्र हुआ करता था, जिन्हें प्रयागराज का प्रथम नागरिक भी कहा जाता है.वह इस आश्रम में साधना करते थे.उनके साथ ही साथ 88 हजारों ऋषि-मुनियों की साधना और योग का स्थल भी हुआ करता था.त्रेता युग में यह दीक्षा, धर्म और ज्ञान का केंद्र था.जहां भगवान श्री राम का भी आगमन हुआ था.

    प्रभु श्रीराम  के चरण कमल पड़े थे यहां
    यह वही स्थान है जहां मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का दो बार आगमन हुआ था.भगवान श्री राम को जब वनवास हुआ तो उन्होंने अपना पहला ठहराव भरद्वाज आश्रम में ही किया. यहां इन्होंने ऋषि द्वारा स्थापित \’भरद्वाजेश्वर शिवलिंग\’ की पूजा-अर्चना की और माता सीता,भाई लक्ष्मण के साथ ऋषि का आशीर्वाद लेकर आगे चित्रकूट की ओर बढ़े. इसके साथ ही रावण का वध करके जब प्रभु वापस अयोध्या लौट रहे थे तो वह फिर से ऋषि भरद्वाज से मिलने प्रयागराज के इस आश्रम में आए थे.


    वर्तमान में ऐसा है आश्रम

    एक बहुत लंबा अरसा बीत चुका है, ऐसे में यह आश्रम पूरी तरह परिवर्तित हो चुका है. घास की कुटिया अब सीमेंट, ईट के मंदिरों में तब्दील हो चुकी है.इसके साथ ही इतना धार्मिक होने के बावजूद इसकी बनावट पर खास ध्यान नहीं दिया गया है.आश्रम की जमीन का एक हिस्सा अवैध कब्जे में है. मंदिर को अब जीर्णोद्धार की भी जरूरत है. आपको बता दें कि इस आश्रम में बहुत से मंदिर स्थित है. आश्रम परिसर में भगवान शिव का एक मंदिर है,मान्यता है कि यह वही शिवलिंग है जिसकी स्थापना ऋषि भारद्वाज ने की थी.इसके साथ ही ऋषि भरद्वाज के गुरू याज्ञवल्क्य जी का मंदिर,माता संतोषी का मंदिर भी इस परिसर में विद्यमान है.
    (रिपोर्ट- प्राची शर्मा)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज