गुजरात की इस जेल में आज शिफ्ट होगा बाहुबली नेता अतीक अहमद

दरअसल, लखनऊ निवासी रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल को अगवा कर देवरिया जेल में पीटा गया था. यह वारदात माफिया अतीक अहमद के गुर्गों ने की थी और तब अतीक देवरिया जेल में ही निरुद्ध था.

News18Hindi
Updated: June 1, 2019, 9:17 AM IST
गुजरात की इस जेल में आज शिफ्ट होगा बाहुबली नेता अतीक अहमद
पूर्व सांसद अतीक अहमद
News18Hindi
Updated: June 1, 2019, 9:17 AM IST
प्रयागराज के नैनी सेंट्रल जेल में बंद बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद को अहमदाबाद सेंट्रल जेल भेजे जाने की तैयारी शुरू हो गई है. गुजरात सरकार का पत्र मिलने के बाद शासन ने अतीक अहमद की जेल बदले जाने का आदेश जारी कर दिया. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अतीक अहमद को गुजरात की जेल में स्थानांतरित करने का आदेश दिया था. नैनी जेल अधीक्षक एच.बी सिंह ने बताया कि अतीक अहमद को कड़ी सुरक्षा के बीच शनिवार को ब्रज वाहन द्वारा वाराणसी के बावतपुर एयरपोर्ट लाया जाएगा. जहां उसे अहमदाबाद सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया जाएगा.

दरअसल, लखनऊ निवासी रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल को अगवा कर देवरिया जेल में पीटा गया था. यह वारदात माफिया अतीक अहमद के गुर्गों ने की थी और तब अतीक देवरिया जेल में ही निरुद्ध था. युवक ने जेल में कई दस्तावेजों में जबरन दस्तखत भी कराये गये थे. इस दु:साहसिक घटना के सामने आने पर आलमबाग कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी.



जेल में हुई घटना को लेकर सवाल उठने पर शासन ने प्रकरण की जांच कराई थी. देवरिया जेल के अधिकारियों की लापरवाही सामने आई थी. जिस पर देवरिया के जेल अधीक्षक व जेलर समेत पांच जेलकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था. इस प्रकरण के बाद अतीक अहमद को देवरिया जेल से बरेली जेल स्थानान्तरित कर दिया गया था. 19 अप्रैल को अतीक अहमद को बरेली जिला कारागार से नैनी सेंट्रल जेल स्थानांतरित किया गया था.

आपको बता दें कि गैंगस्‍टर से नेता पूर्व सांसद अतीक अहमद का जन्म 10 अगस्त 1962 को श्रावस्ती जनपद में हुआ था. पढ़ाई लिखाई में उनकी कोई खास रूचि नहीं थी, इसलिए उन्होंने हाई स्कूल में फेल हो जाने के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. कई माफियाओं की तरह ही अतीक अहमद ने भी जुर्म की दुनिया से सियासत की दुनिया का रुख किया था. पूर्वांचल और इलाहाबाद में सरकारी ठेकेदारी, खनन और उगाही के कई मामलों में उनका नाम आया.

बसपा विधायक की हत्या का आरोप
अतीक अहमद 2004 के आम चुनाव में फूलपुर से सपा के टिकट सांसद बन गए. इसके बाद इलाहाबाद की पश्चिम विधानसभा सीट खाली हो गई थी. सीट पर उपचुनाव हुआ. सपा ने अतीक के छोटे भाई अशरफ को टिकट दिया था. बसपा ने अतीक के छोटे भाई अशरफ के सामने राजू पाल को खड़ा किया. चुनाव में राजू ने अशरफ को हरा दिया. उपचुनाव में जीत दर्ज कर पहली बार विधायक बने राजू पाल की कुछ महीने बाद 25 जनवरी, 2005 को दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. इस हत्याकांड में सीधे तौर पर सांसद अतीक अहमद और उनके भाई अशरफ को आरोपी बनाया गया था.

ये भी पढ़ें:
Loading...

UP: शाहजहांपुर में गौहत्या के आरोप में गौशाला के तीन कर्मचारी निलंबित

'जन्मदिन मुबारक हो मम्मी, मैं दुखी हूं’, कागज के टुकड़े पर इतना लिख बेटे ने की खुदकुशी

देव स्थान पर मीट खा रहे मजदूरों की जमकर पिटाई, सोशल मीडिया पर VIDEO वायरल

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

 

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...