लाइव टीवी

संगम नगरी में माघ मेला शुरु, पहले स्नान पर 23 लाख श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी
Allahabad News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 10, 2020, 10:59 PM IST
संगम नगरी में माघ मेला शुरु, पहले स्नान पर 23 लाख श्रद्धालुओं ने लगाई आस्था की डुबकी
संगम तट पर माघ मेले का आगाज

संगम (Sangam) की रेती पर माघ मेला (Magh mela) शुरु हो चुका है, पहले स्नान पर्व पौष पूर्णिमा पर 23 लाख श्रद्धालुओं ने संगम में लगायी आस्था की डुबकी, पुलिस-प्रशासन (police-administration) ने सुरक्षा के चाक चौबन्द इंतजाम किए ...

  • Share this:
प्रयागराज. पौष पूर्णिमा के पहले स्नान पर्व के साथ ही संगम नगरी (sangam city) प्रयागराज (Pryagraj) में हर साल लगने वाले देश के सबसे बड़े अध्यात्मिक मेले (Magh mela) की शुक्रवार शुरुआत हो गयी. पौष पूर्णिमा (Full moon) के पहले स्नान पर्व पर गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की त्रिवेणी के संगम में 23 लाख श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगायी.

पहले स्नान पर्व पर कम रही श्रद्धालुओं की संख्या
हांलाकि प्रशासन के अनुमान के मुताबिक पौष पूर्णिमा के पहले स्नान पर्व पर काफी कम श्रद्धालु यहां पर पहुंचे हैं. प्रशासन ने 32 लाख श्रद्धालुओं को माघ मेले के पहले स्नान पर्व पर पहुंचने का अनुमान लगाया था. मेलाधिकारी रजनीश मिश्रा के मुताबित माघ मेले का पहला स्नान पर्व सकुशल सम्पन्न हुआ है. उन्होंने इसके लिए पूरी टीम और मेले में आये साधु संतों और कल्पवासियों को बधाई दी है. मेलाधिकारी के मुताबिक सुबह चार बजे से ही स्नान का क्रम शुरु हो गया था और देर शाम तक श्रद्धालुओं के संगम में आने का क्रम जारी है. उनके मुताबिक संगम के साथ ही पूरे मेला क्षेत्र में बनाये गए दूसरे स्नान घाटों पर भी बड़ी तादात में श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगायी है.

sangam, prayagraj, magh mela
माघ मेले में दूर-दूर से पहुंचे श्रद्धालु




चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा


गौरतलब है कि 2560 बीघे में बसाये गए माघ मेले को तीन जोन और छह सेक्टरों में बांटा गया है. इसके साथ ही मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए पांच किलोमीटर के दायरे में छह स्नान घाट बनाये गए हैं. कुम्भ मेले की ही तर्ज पर स्नान घाटों पर डीप वाटर बैरिकेटिंग, जाल और घाटों पर रेत भरकर बोरियां लगायी गई हैं. इसके साथ ही स्नान के बाद घाटों पर निकलने वाले श्रद्धालुओं के लिए कांसा घास भी बिछायी गई है. जबकि महिलाओं के लिए सैकड़ों की तादात में स्नान घाटों पर चेंन्जिग रुम भी बनाये गए हैं.

प्रयागराज में आज पौष पूर्णिमा के स्नान पर्व से लेकर 21 फरवरी को पड़ने वाले महाशिवरात्रि के पर्व तक यह मेला 43 दिनों तक चलेगा. इस दौरान संगम की रेती पर बने तम्बुओं में जहां एक माह तक साधु-संत कठिन तप और साधना करेंगे. तो वहीं मोक्ष की कामना को लेकर कल्पवासी भी एक माह तक संगम की रेती पर नियमित और संयमित दिनचर्या के साथ कल्पवास करेंगे. पहले स्नान पर्व पर पुलिस ने भी सुरक्षा के लिए व्यापक इंतजाम किए. माघ मेले में चप्पे-चप्पे पर पुलिस, पीएसी और एटीएस के जवान नजर आये. तो वहीं संगम के स्नान घाटों पर भी एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की तैनाती रही. माघ मेले के पहले स्नान पर्व के सकुशल निपट जाने से प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है.

ये भी पढ़ें- एसिड पीड़िता की दास्तान कहती 'छपाक' अलीगढ़ में नहीं हुई रिलीज, फिल्म के समर्थन में उतरे सपाई


PHOTOS: ...जब बनारस की मलाई गिलौरी खाकर प्रियंका गांधी बोलीं- वाह मजा आ गया

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 10, 2020, 10:59 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading