• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • UP: अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख का किया समर्थन, महंत नरेंद्र गिरि बोले- मुसलमानों और ईसाइयों का एक DNA

UP: अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख का किया समर्थन, महंत नरेंद्र गिरि बोले- मुसलमानों और ईसाइयों का एक DNA

अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख का किया समर्थन

अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख का किया समर्थन

महंत ने कहा है कि देश में रहने वाले मुसलमानों (Muslims) और ईसाइयों के पूर्वज भी हिन्दू ही थे. इसलिए अखाड़ा परिषद उनके घर वापसी की भी कोशिश कर रहा है.

  • Share this:
प्रयागराज. साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने संघ प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) के बयान का समर्थन किया है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Narendra Giri) ने कहा है कि यह बात सही है कि देश में रहने वाले हिन्दुओं के साथ ही मुसलमानों और ईसाइयों का डीएनए एक ही है. कुछ लोगों ने लालच और दबाव में हिंदू धर्म छोड़कर इस्लाम और क्रिश्चियन धर्म अपना लिया था. उन्होंने कहा है कि भारत में रहने वाले सभी मुसलमानों और ईसाइयों के पूर्वज पहले हिंदू ही थे. वहीं मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर संघ प्रमुख मोहन भागवत द्वारा दिए गए बयान का भी समर्थन किया है. उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग की घटनाओं को किसी भी तरह से जायज नहीं ठहराया जा सकता है.

महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि गाय हमारी माता है और हमेशा रहेगी. लेकिन इसके बावजूद गौ हत्या के नाम पर मॉब लिंचिंग कतई करना सही नहीं है. गिरी ने कहा है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद यह कोशिश कर रहा है देश में रहने वाले ईसाइयों और मुसलमानों को भी हिंदुत्व की विचारधारा से जोड़ा जाए. उन्होंने कहा है कि संघ प्रमुख मोहन भागवत ने उचित ही कहा है कि किसी मुसलमान को देश छोड़ने के लिए कहना गलत है.

मुसलमानों और ईसाइयों से की अपील
महंत ने कहा है कि देश में रहने वाले मुसलमानों और ईसाइयों के पूर्वज भी हिन्दू ही थे. इसलिए अखाड़ा परिषद उनके घर वापसी की भी कोशिश कर रहा है. उन्होंने मुसलमानों और ईसाइयों से अपील की है कि सभी लोग अपने पुराने धर्म में लौट आएं और सभी का समावेश हो. यह देश की एकता और अखंडता के लिए उचित रहेगा.

मोहन भागवत ने कही थी ये बात
मुस्लिम राष्ट्रीय मंच द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख भागवत ने कहा था कि सभी भारतीयों का डीएनए एक है, चाहे वे किसी भी धर्म के हों. उन्होंने लिंचिंग को लेकर कहा कि इसमें शामिल लोग हिंदुत्व के खिलाफ हैं और लोकतंत्र में हिंदुओं या मुसलमानों का प्रभुत्व नहीं हो सकता है. हिंदू-मुस्लिम एकता भ्रामक है, क्योंकि वे अलग नहीं बल्कि एक हैं. उन्होंने कहा था कि पूजा करने के तरीके को लेकर लोगों के बीच अंतर नहीं किया जा सकता. कुछ काम ऐसे हैं, जो राजनीति नहीं कर सकती. राजनीति लोगों को एकजुट नहीं कर सकती.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज