• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Mahant Suicide Case: पुराना है संपत्ति को लेकर बाघंबरी मठ में संतों का विवाद

Mahant Suicide Case: पुराना है संपत्ति को लेकर बाघंबरी मठ में संतों का विवाद

बाघंबरी मठ के एक महंत की पहले भी हुई है संदिग्ध परिस्थितियों मे मौत.

बाघंबरी मठ के एक महंत की पहले भी हुई है संदिग्ध परिस्थितियों मे मौत.

Suspicious death : इससे पहले 1978 में महंत विचारानंद गिरी की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी. बताया जाता है कि हरिद्वार से लौटते समय ट्रेन में जहर के सेवन से महंत विचारानंद गिरी की हुई थी मौत.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या के मामले में हर दिन नए-नए खुलासे हो रहे हैं. शुक्रवार को सवाल यह भी उठा कि कहीं मठ की करोड़ों की संपत्ति ने तो नहीं ले ली महंत नरेंद्र गिरि की जान. दरअसल बाघम्बरी मठ में पहले भी एक महंत की संदिग्ध मौत हुई है. इसलिए भी महंत नरेंद्र गिरि की मौत पर साजिश के लग रहे हैं आरोप. इससे पहले 1978 में महंत विचारानंद गिरी की मौत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई थी. बताया जाता है कि हरिद्वार से लौटते समय ट्रेन में जहर के सेवन से महंत विचारानंद गिरी की हुई थी मौत.

    सूत्रों ने बताया कि महंत बलदेव गिरी के बाद बने महंत भगवान गिरी की स्वाभाविक मौत हुई थी. उनकी मौत के बाद 2004 में महंत नरेंद्र गिरि मठ के उत्तराधिकारी बने. 20 सितंबर 2021 महंत नरेंद्र गिरि फांसी के फंदे पर लटके पाए गए.

    इन्हें भी पढ़ें :
    महंत नरेंद्र गिरि ने बनवाई थी तीन वसीयत, हर बार बदला था उत्तराधिकारी
    मौत से पहले महंत नरेंद्र गिरि के फोन पर आए थे 35 कॉल, जांच के घेरे में हरिद्वार के 2 बिल्डर

    हालांकि महंत विचारानंद गिरी की मौत के बाद ही मठ की संपत्ति को लेकर विवाद शुरू हो गया था. तब शिवानंद गिरी ने मठ का उत्तराधिकारी घोषित करने की मांग थी. यह मामला पहले सिविल कोर्ट में दाखिल किया गया था. लेकिन शिवानंद गिरी ने कोर्ट फीस जमा नहीं कर पाए थे तो उनका दावा खारिज कर दिया गया था. हालांकि बाद में हाईकोर्ट जाने पर अदालत ने कोर्ट फीस जमा करने का मौका दिया, लेकिन शिवानंद गिरी फीस नहीं जमा कर पाए. आज भी यह मुकदमा जिला कोर्ट प्रयागराज में चल रहा है. महंत नरेंद्र गिरि के वकील महादेव द्विवेदी ने इस बात की जानकारी दी है. मतलब साफ है कि मठ की संपत्ति को लेकर विवाद कोई नया नहीं है. अब लोगों को सीबीआई जांच से ही राज खुलने की उम्मीद है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज