लाइव टीवी

UPSC में हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों के सेलेक्शन में आई भारी गिरावट, 10 सालों में दो फीसदी रह गई संख्या
Allahabad News in Hindi

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 11, 2020, 2:52 PM IST
UPSC में हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों के सेलेक्शन में आई भारी गिरावट, 10 सालों में दो फीसदी रह गई संख्या
हिंदी माध्यम के अभ्यर्थियों ने कि पुरानी पद्धति लागू करने की मांग

बता दें पिछले 10 सालों में हिंदी माध्यम से मेंस में चयनित होने वाले अभ्यर्थियों की संख्या में भारी गिरावट देखने को मिली है. पहले जहां 35 फ़ीसदी छात्र मेंस के लिए क्वालीफाई होते थे अब यह संख्या गिरकर महज दो फ़ीसदी रह गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. यूपीएससी (UPSC) की सिविल सेवा परीक्षा (Civil Services Exam) में हिन्दी माध्यम (Hindi Medium) के अभ्यर्थियों के चयन का ग्राफ गिरने के लिए प्रतियोगी छात्रों ने बदले गए पैटर्न और अंग्रेजी माध्यम के छात्रों को बढ़ावा दिए जाने को जिम्मेदार ठहराया है. हिन्दी भाषी अभ्यर्थियो ने संघ लोक सेवा आयोग से मांग की है कि सीसैट के पश्नपत्र को तत्काल हटाकर पूर्व पद्धति में प्रारम्भिक परीक्षा करायी जाये.

बता दें पिछले 10 सालों में हिंदी माध्यम से मेंस में चयनित होने वाले अभ्यर्थियों की संख्या में भारी गिरावट देखने को मिली है. पहले जहां 35 फ़ीसदी छात्र मेंस के लिए क्वालीफाई होते थे अब यह संख्या गिरकर महज दो फ़ीसदी रह गई है. यही वजह है कि हिंदी भाषी छात्र पुरानी पद्धति को फिर से लागू करने की मांग कर रहे हैं.

अभ्यर्थियों की ये है मांग

अभ्यर्थियों का कहना है कि सीसैट के प्रश्नपत्र की जगह केवल सामान्य अध्ययन का पेपर लिया जाये, जिसमें परम्परागत विषयों के प्रश्नों का प्रतिशत अधिक हो. इसके साथ ही प्रतियोगी छात्रों ने सिविल सेवा और वन सेवा की प्रारम्भिक परीक्षा भी अगल-अलग कराये जाने की भी मांग की है. प्रतियोगी छात्रों ने हिन्दी भाषी छात्रों के लिए प्रश्न पत्र हिन्दी में तैयार किए जाने और उसका मूल्यांकन भी हिन्दी माध्यम के ही शिक्षकों से कराये जाने की मांग की है. इसके साथ ही साक्षात्कार में भी हिन्दी में इंटरव्यू देने पर उसे कमतर न आंके जाने और भेदभाव खत्म करने की मांग की है.

प्रतियोगी छात्रों ने संघ लोक सेवा आयोग की सिविल परीक्षा में हिन्दी के साथ ही दूसरी भारतीय भाषाओं को भी उचित सम्मान और तवज्जो दिए जाने की मांग की है.

ये भी पढ़ें:धमकी देने के बाद रेप पीड़िता के पिता की गोली मारकर हत्या, 3 सस्पेंड

बुर्का वाले बयान पर फंसे योगी के मंत्री रघुराज सिंह, BJP ने दिया नोटिस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 2:41 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर