Home /News /uttar-pradesh /

murder case went on for 30 years 5 accused died now the remaining 5 got 10 years sentence nodss

30 साल चला हत्या का केस, 5 आरोपियों की हो गई मौत, अब बाकि 5 को मिली 10 साल की सजा

कोर्ट ने पीड़ित पक्ष की दलीलों को सजा योग्य मानते हुए अपना फैसला सुनाया. (सांकेतिक फोटो)

कोर्ट ने पीड़ित पक्ष की दलीलों को सजा योग्य मानते हुए अपना फैसला सुनाया. (सांकेतिक फोटो)

प्रयागराज जिला कोर्ट ने 30 साल पहले हत्या के एक मामले में पांच आरोपितों को दोषी मानते हुए 10-10 साल की सजा व 10-10 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है. इतनी लंबी चली सुनवाई के ट्रायल के समय ही पांच आरोपितों की मौत हो गई थी.

प्रयागराज. 30 साल पहले लाठी डंडे से पीट-पीटकर हत्या करने के आरोपियों को जिला कोर्ट प्रयागराज ने 10 साल की सजा सुनाई है. साथ ही 10-10 हजार रुपये का अर्थदंड भी लगाया गया है. इतनी लंबी चली मामले की सुनवाई के दौरान ही मामले के पांच आरोपितों की मौत हो गई. वहीं बाकि बचे पांच आरोपितों को सजा सुनाई गई है. जिनको सजा सुनाई गई है वे संगम, सूबेदार, लालचंद ,बाबू और मित्तल हैं. वहीं जबकि मुकदमे के ट्रायल के दौरान ही होरीलाल, भागेलु, किशोरी, बेचन और बिंदेश्वरी की मौत हो गई थी.

जिला कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि आरोपितों के विरुद्ध अभियोजन पक्ष मामला साबित करने में सफल रहा है. इसलिए आरोपी दंडित किए जाने के योग्य हैं. अपर सत्र न्यायाधीश रामकिशोर शुक्ल ने अपर शासकीय अधिवक्ता फौजदारी गिरीश तिवारी एवं सहायक शासकीय अधिवक्ता फौजदारी हरि नारायण शुक्ल और आरोपितों के अधिवक्ता के विस्तृत तर्कों को सुनने और पत्रावली पर उपलब्ध साक्ष्यों का अवलोकन करने के बाद यह फैसला सुनाया.

दरअसल पूरा मामला उतरांव थाना क्षेत्र का था. उतरांव थाने में ग्राम दादूपुर निवासी मोतीलाल ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी. रिपोर्ट के मुताबिक 15 अगस्त 1992 को उसके पिता रघुवीर खेत में घास काट रहे थे. तभी सभी आरोपित आए लाठी डंडा लेकर मारने पीटने लगे. भाई जीत लाल, चाचा महावीर, चचेरा भाई हरिशंकर व कल्लू राम ने बीच बचाव भी किया लेकिन रघुवीर को नहीं बचा सके. वारदात में घायल हुए रघुवीर की इलाज के दौरान मौत हो गई थी.

Tags: Allahabad news, Murder case

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर