• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • प्रयागराज: मंच सजा, श्रोता पहुंचे और अचानक रद्द हो गया मुशायरा, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

प्रयागराज: मंच सजा, श्रोता पहुंचे और अचानक रद्द हो गया मुशायरा, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में शुक्रवार 13 अगस्त की शाम पांच बजे आयोजित मुशायरे को अचानक रद्द कर दिया गया.

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में शुक्रवार 13 अगस्त की शाम पांच बजे आयोजित मुशायरे को अचानक रद्द कर दिया गया.

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में शुक्रवार 13 अगस्त की शाम पांच बजे आयोजित मुशायरे को अचानक रद्द कर दिया गया. मंच सजने और मेहमानों के आने के बाद अचानक मुशायरे का कार्यक्रम रद्द किए जाने को लेकर लोगों के बीच कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं. इस पर पीआरओ ने अलग ही सफाई दी है.

  • Share this:

प्रयागराज. इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी (Allahabad Central University) में शुक्रवार 13 अगस्त की शाम पांच बजे आयोजित मुशायरे (Mushaira) को अचानक रद्द कर दिया गया. मंच सजने और मेहमानों के आने के बाद अचानक मुशायरे का कार्यक्रम रद्द किए जाने को लेकर लोगों के बीच कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं. वहीं इस मामले में इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी की ओर सफाई पेश की गई है. यूनिवर्सिटी की पीआरओ डॉ जया कपूर ने पूरे मामले में कहा है कि कुछ मेहमानों का अप्रूवल न मिलने के चलते कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा है. उन्होंने कहा है कि मीडिया में कुछ जगहों पर ऐसा चल रहा है कि राज्य या फिर केन्द्र सरकार के हस्तक्षेप से कार्यक्रम रद्द किया गया है, ये पूरी तरह से गलत और बेबुनियाद है.

बताया जा रहा है कि मुशायरे में शाहीन बाग जाकर सीएए का विरोध करने वाले शायरों को बुलाए जाने की वजह से मुशायरे का कार्यक्रम ऐन वक्त पर रद्द करना पड़ा. यह कार्यक्रम आजादी की सालगिरह के अमृत महोत्सव के तहत आयोजित किया गया था. मुशायरे में शबीना अदीब और हाशिम फिरोजाबादी को भी अपने कलाम पेश करने के लिए बुलाया गया था, लेकिन शबीना अदीब और हाशिम फिरोजाबादी ने पिछले साल दिल्ली के शाहीन बाग जाकर सीएए का विरोध किया था और विरोधियों के समर्थन में सभा भी की थी. दोनों शायरों ने वहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व सरकार के अन्य लोगों के खिलाफ विवादित टिप्पणी भी की थी. इन दोनों शायरों को बुलाए जाने का मामला सोशल मीडिया पर उछलने के बाद मुशायरे को रद्द करना पड़ा. यहां के छात्र सीएए और एनआरसी का समर्थन करने वाले शायरों को बुलाए जाने का विरोध कर रहे थे.
चीफ गेस्ट ही नहीं कर रहे थे शिरकत

दरअसल, दोनों शायरों को बुलाये जाने की वजह से कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रयागराज के कमिश्नर संजय गोयल ने आने से इंकार कर दिया था. इसके साथ ही सेंट्रल यूनिवर्सिटी की वाइस चांसलर प्रोफेसर संगीता श्रीवास्तव ने भी अध्यक्षता करने से मना कर दिया था. औपचारिक शुरुआत से पहले सैकड़ों की भीड़ के बीच अचानक कार्यक्रम रद्द किया गया. हालांकि कार्यक्रम रद्द करने का ऐलान होते वक़्त तमाम शायर व दूसरे मेहमानों के साथ ही बड़ी संख्या में श्रोता भी कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए थे.

इन शायरों को था बुलावा

विवादित शायरों के साथ ही ताहिर फराज, भूषण त्यागी, इकबाल अशर, पॉपुलर मेरठी, भालचंद्र त्रिपाठी, कलीम कैसर और मोइन शादाब को भी बुलाया गया था. यूनिवर्सिटी के सीनेट हॉल में मुशायरे के इस कार्यक्रम को इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी का उर्दू डिपार्टमेंट, उत्तर प्रदेश उर्दू एकेडमी और यूनिवर्सिटी की केंद्रीय सांस्कृतिक समिति ने साझा तौर पर आयोजित किया था. यूनिवर्सिटी की पीआरओ डॉक्टर जया कपूर के मुताबिक कार्यक्रम रद्द किए जाने को लेकर किसी तरह की अफवाह फैलाना सही नहीं है. वहीं कार्यक्रम रद्द किए जाने का छात्र स्वागत कर रहे हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज