लाइव टीवी

प्रयागराज: CAA के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का रौशन बाग पर धरना जारी, पीछे हटने को तैयार नहीं
Allahabad News in Hindi

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 11, 2020, 1:57 PM IST
प्रयागराज: CAA के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का रौशन बाग पर धरना जारी, पीछे हटने को तैयार नहीं
इलाहाबाद में एक महीने से लगातार सीएए के खिलाफ प्रदर्शन जारी है.

प्रयागराज (Prayagraj) के रौशन बाग के मंसूर अली पार्क में 12 जनवरी से सीएए और एनआरसी के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना चल रहा है. इस बीच प्रशासन की ओर से कई बार धरना समाप्त कराने की भी कोशिशें की गईं. लेकिन सफलता नहीं मिली.

  • Share this:
प्रयागराज. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का प्रयागराज (Prayagraj) के रौशन बाग (Raushan Bagh) में धरना लगातार लगातार जारी है. सीएए और एनआरसी के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरने पर बैठीं मुस्लिम महिलायें अपने आन्दोलन से पीछे हटने को कतई तैयार नहीं हैं. महिलायें लगातार चौबीसों घंटे मंसूर अली पार्क में धरना दे रही हैं. महिलायें सीएए और एनआरसी को काला कानून बताते हुए इसे संसद में ही वापस लिए जाने की मांग कर रही हैं. इस दौरान धरनास्थल पर नारेबाजी और देशभक्ति के गीत भी गाए जा रहे हैं.

महिलाओं का कहना है कि उनके लिए इससे ज्यादा शर्मनाक और क्या हो सकता है कि उन्हें अब अपनी नागरिकता साबित करने के लिए कागजात दिखाने पड़ेंगे. महिलाओं का आरोप है कि देश में कई गरीब परिवार ऐसे भी हैं जिनके पास किसी तरह के कागजात मौजूद नहीं हैं. ऐसे में उन्हें असम की तर्ज पर आखिरकार डिटेंशन सेंटरों में डाल दिया जायेगा.

महिलाओं ने CAA और NRC को बताया संविधान के खिलाफ
महिलाओं का आरोप है कि सीएए और एनआरसी देश के संविधान के भी खिलाफ है इसलिए इस काले कानून को संसद में ही खत्म करने की देश के प्रधानमंत्री को घोषणा करनी चाहिए. मुस्लिम महिलाओं का कहना है कि ये धरना किसी भी तरह दिल्ली के चुनाव से जुड़ा हुआ नहीं है. बल्कि यह सीधे तौर पर सीएए और एनआरसी के ही खिलाफ है. इसलिए बगैर सीएए और एनआरसी को खत्म किए अब यह धरना अब खत्म होने वाला नहीं है. आन्दोलन कर रही महिलाओं का कहना है कि इस आन्दोलन को अब मंसूर पार्क से निकाल कर गांव-गांव घर-घर तक लोगों के बीच ले जाया जायेगा.

धरना खत्म कराने के सभी प्रयास हो चुके हैं विफल
गौरतलब है कि प्रयागराज के रौशन बाग के मंसूर अली पार्क में 12 जनवरी से सीएए और एनआरसी के खिलाफ अनिश्चितकालीन धरना चल रहा है. इस बीच प्रशासन की ओर से कई बार धरना समाप्त कराने की भी कोशिशें की गईं. कई बार पार्क में भारी संख्या में पुलिस फोर्स भी पहुंची, लेकिन प्रदर्शनकारियों में महिलाओं और बच्चों को देखते हुए पुलिस कार्रवाई की हिम्मत नहीं जुटा सकी है.

ये भी पढ़ेंसिपाही भर्ती में अभ्यर्थी को OBC कोटा नहीं देने के मामले में HC ने मांगा जवाब

सीतापुर: 3 साल की मासूम बच्ची की रेप के बाद हत्या, आरोपी गिरफ्तार

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 1:57 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर