लाइव टीवी

COVID-19: लखनऊ के बाद प्रयागराज में महिलाओं ने स्थगित किया CAA विरोध प्रदर्शन, बोलीं- लड़ाई आगे भी जारी रहेगी
Allahabad News in Hindi

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: March 23, 2020, 8:33 PM IST
COVID-19: लखनऊ के बाद प्रयागराज में महिलाओं ने स्थगित किया CAA विरोध प्रदर्शन, बोलीं- लड़ाई आगे भी जारी रहेगी
प्रयागराज में महिलाओं ने स्थगित किया CAA प्रदर्शन

गौरतलब है कि कोरोना के खतरे को लेकर पुलिस और प्रशासन भी लगातार धरना खत्म कराने की कोशिशों में जुटा था. पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी 21 मार्च तको मंसूर अली पार्क पहुंचे थे.

  • Share this:
प्रयागराज. कोरोना वायरस (Coronavirus) को थर्ड स्टेज में पहुंचने से रोकने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के 16 जिलों को लॉकडाउन कर दिया है. वहीं, कोरोना वायरस के खौफ को देखते हुए प्रयागराज को रोशनबाग इलाके में चल रहा मुस्लिम महिलाओं का धरना 73वें ने स्थगित हो गया है. कोरोना वायरस की फैली महामारी के चलते धरने को चला रही मुस्लिम महिलाएं फिलहाल धरने से उठने को राजी हो गयी हैं. जिसके बाद मौके पर पहुंचे प्रशासनिक अधिकारियों ने महिलाओं को धरने उठा दिया है.

इस दौरान महिलाओं ने प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन भी सौंपा है. महिलाओं ने ज्ञापन में सीएए, एनआरसी और एनपीआर का विरोध आगे भी जारी रखने की बात कही है. उन्होंने कहा है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए उन्होंने फिलहाल धरना स्थगित किया है. क्योंकि लोगों को मना करने के बावजूद बड़ी संख्या में महिलाएं मंसूर अली पार्क में इकठ्ठा हो रही थी. जिससे संक्रमण फैलने का खतरा पैदा हो गया था. आंदोलन का नेतृत्व कर रही सारा अहमद सिद्दीक़ी ने कहा है कि, "हम सब सरकार के खिलाफ हैं और NRC, NPR और CAA के खिलाफ लड़ाई आगे भी जारी रहेगी.

गौरतलब है कि कोरोना के खतरे को लेकर पुलिस और प्रशासन भी लगातार धरना खत्म कराने की कोशिशों में जुटा था. पुलिस और प्रशासन के आलाधिकारी 21 मार्च तको मंसूर अली पार्क पहुंचे थे. लेकिन मुस्लिम महिलायें धरने से पीछे हटने को तैयार नहीं हुईं. जिसके मुस्लिम महिलाओं के धरने के खिलाफ पुलिस और प्रशासन ने शिकंजा कसना शुरु कर दिया था. पुलिस ने सख्त कानूनी कार्रवाई करते हुए रोशन बाग के मंसूर अली पार्क में सीएए और एनआरसी के विरोध में धरने पर बैठी मुस्लिम महिलाओं और धरने को समर्थन दे रहे लोगों के खिलाफ रविवार दो अलग-अलग मुकदमे दर्ज कर लिए थे.

पुलिस ने खुल्दाबाद थाने में पहला मुकदमा 117 लोगों के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत दर्ज किया. तो वहीं दूसरा मुकदमा धारा 144 के उल्लंघन को लेकर दर्ज किया है. महामारी अधिनियम के तहत दर्ज कराये गए मुकदमे में 17 लोगों को नामजद और 100 अज्ञात को आरोपी बनाया गया है. जबकि धारा 144 के उल्लंघन के मामले में 21 नामजद और 225 अज्ञात के खिलाफ अटाला चौकी इंचार्ज कलीमुल्लाह की ओर से एफआईआर दर्ज करायी गई है. इन मुकदमों के दर्ज होने से भी धरना खत्म करने को लेकर दबाव बना, जिसके चलते धरना खत्म हुआ.



ये भी पढे़ं:

COVID-19: लॉकडाउन को लेकर यूपी पुलिस की बड़ी कार्रवाई, अब तक 161 FIR दर्ज

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 8:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर