UP: प्रयागराज में कोरोना का कहर जारी, प्रशासन के लिए पंचायत चुनाव बनी बड़ी चुनौती

प्रयागराज में पंचायत चुनाव बनी बड़ी चुनौती

प्रयागराज में पंचायत चुनाव बनी बड़ी चुनौती

आईजी प्रयागराज रेंज (IG) केपी सिंह के मुताबिक त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों (Panchayat Election) में मतदान का प्रतिशत भी ज्यादा होता है और लोगों के मिलने जुलने से कोरोना का संक्रमण बढ़ने की संभावना काफी बढ़ गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों (UP Panchayat Election) के बीच प्रयागराज में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे है. स्थानीय स्तर पर होने वाले पंचायत चुनावों में लॉ एंड आर्डर पुलिस और प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती रहती है. वहीं अब कोरोना के नए आ रहे मामलों ने भी बड़ी मुश्किलें खड़ी कर दी हैं. पंचायत चुनावों में जिस तरह से चरित्र प्रमाण पत्र बनवाने के लिए एसएसपी कार्यालय पर संभावित दावेदारों की भीड़ उमड़ रही है. वहीं बैंकों में भी चालान जमा करने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रही है. जबकि जिला पंचायत कार्यालय में भी गहमागहमी का माहौल दिखाई दे रहा है और कोरोना के प्रोटोकॉल का कहीं पर भी पालन नहीं हो रहा है.

संगम नगरी प्रयागराज में दो दिनों में ही 400 से ज्यादा कोरोना संक्रमित मिलने से हड़कंप मच गया है. बुधवार को जहां 213 नए कोरोना संक्रमित मिले थे. वहीं गुरुवार को यह आंकड़ा 222 तक पहुंच गया. जबकि कोविड लेवल थ्री एसआरएन अस्पताल में कोरोना संक्रमित 85 मरीजों का इलाज भी चल रहा है. वहीं पंचायत चुनावों के मद्देनजर पुलिस और प्रशासन की कोरोना के संक्रमण बढ़ने को लेकर चिंता काफी बढ़ गई है. कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य महकमे ने भी नये सिरे से रणनीति बनानी शुरु कर दी है.

UP: सरकारी नौकरियों में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को 10% आरक्षण का रास्ता साफ, ये है तैयारी

जिले में कोरोना का संक्रमण कम होने के बाद बंद किए गए कोविड लेवल वन और लेवल टू अस्पतालों को फिर से किसी भी चुनौती से निबटने के लिए तैयार किया जा रहा है. आईजी प्रयागराज रेंज केपी सिंह के मुताबिक त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों में मतदान का प्रतिशत भी ज्यादा होता है और लोगों के मिलने जुलने से कोरोना का संक्रमण बढ़ने की संभावना काफी बढ़ गई है. हालांकी पंचायत चुनाव में ड्यूटी पर लगने वाले ज्यादातर पुलिस कर्मियों का कोरोना वैक्सीनेशन हो चुका है. लेकिन इसके बावजूद मतदान कर्मियों और अन्य लोगों को कोरोना संक्रमण का खतरा बरकार है.
रणनीति पर मंथन

आईजी के मुताबिक कोरोना को एक बड़ी चुनौती के रूप में स्वीकार करते हुए ही पुलिस और प्रशासन त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कराने की रणनीति तैयार कर रहा है. ताकि कोरोना का संक्रमण भी न फैले और शान्तिपूर्ण ढ़ंग से पंचायत चुनाव को भी सम्पन्न कराया जा रहे हैं. इसके लिए कोरोना की जांच जहां बढ़ायी गई है. वहीं लोगों को पब्लिक एड्रेस सिस्टम से भी कोविड प्रोटोकॉल के पालन के लिए जागरूक किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज