लाइव टीवी

CAA का विरोध कर रहे लोगों पर राष्ट्रद्रोह का केस दर्ज कर जेल में डाल देना चाहिए: महंत नरेंद्र गिरी
Allahabad News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 1, 2020, 9:42 PM IST
CAA का विरोध कर रहे लोगों पर राष्ट्रद्रोह का केस दर्ज कर जेल में डाल देना चाहिए: महंत नरेंद्र गिरी
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी CAA के समर्थन में बोले

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bharatiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष ने कहा कि सीएए (CAA) के विरोधियों से कहीं ज्यादा तादात में साधु-सन्यासी इस कानून के समर्थन में हैं, लेकिन साधु-संत अहिंसावादी हैं...

  • Share this:
प्रयागराज. अचला सप्तमी महोत्सव में शिरकत करने आये साधु-संतों ने नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) का समर्थन किया है. साधु-संतों ने कहा है कि जो लोग भी नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं, उन पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल में डाल देना चाहिए. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bharatiya Akhara Parishad) के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी (Narendra Giri) ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे लोगों को सख्त चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर सीएए (CAA) के समर्थन में संत बाहर निकल पड़ेंगे तो विरोधियों को यह भारी पड़ेगा.

महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा कि सीएए के विरोधियों से कहीं ज्यादा तादात में साधु-सन्यासी इस कानून के समर्थन में हैं, लेकिन साधु-संत अहिंसावादी हैं. महंत नरेन्द्र गिरी ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध और उपद्रव कर रहे हैं लोगों के खिलाफ केन्द्र व प्रदेश सरकार से कड़ी कार्रवाई की भी मांग की है. उन्होंने कहा है कि सीएए के विरोधियों के खिलाफ हर कार्रवाई का अखाड़ा परिषद पुरजोर समर्थन करेगा.

सीएम योगी से संस्कृत भाषा को बचाने की अपील!
वहीं इस मौके पर शिक्षक विहीन संस्कृत विद्यालयों की स्थिति पर चिन्ता व्यक्त करते हुए महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि शिक्षक न होने से कई संस्कृत विद्यालय बंदी के कगार पर पहुंच गए हैं. उन्होंने सीएम योगी से संस्कृत भाषा को बचाने के लिए रिक्त पदों पर संस्कृत के शिक्षकों की नियुक्ति की भी मांग की है. उन्होंने कहा है कि संस्कृत देववाणी है, इसलिए इसकी उपेक्षा करना उचित नहीं हैं. अचला सप्तमी के मौके पर महंत नरेन्द्र गिरी ने श्री मठ बागम्बरी गद्दी में सस्कृत विद्यालयों के प्रधानाचार्यों और संस्कृत विद्वानों को सम्मानित भी किया.

sangam nagari, prayagraj
श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में अचला सप्तमी पर जुटे साधु-संत


श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में मनायी गई अचला सप्तमी
संगम नगरी (Sangam nagari) प्रयागराज (Prayagraj) में श्री मठ बाघम्बरी गद्दी में रथ सप्तमी या अचला सप्तमी का पर्व बड़े ही आस्था और श्रद्धा के साथ मनाया जाता है. इस मौके पर मठ में महंत नरेन्द्र गिरी द्वारा विशेष पूजा अर्चना की गई और अचला सप्तमी महोत्सव का आयोजन किया. माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को माघी सप्तमी, रथ सप्तमी या अचला सप्तमी मनायी जाती है. अचला सप्तमी के दिन आरोग्य और प्रकाश के देवता भगवान सूर्य की उपासना की जाती है. इस दिन स्नान आदि से निवृत्त होकर भगवान सूर्य की पूजा करने से लोगों को आरोग्य, धन-संपदा और पुत्र रत्न की प्राप्ति होती है. माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि का प्रारंभ 31 जनवरी शुक्रवार को शाम 3 बजकर 51 मिनट पर हो गया है, जो आज शाम 6 बजकर 10 मिनट तक रहेगा.अचला सप्तमी की पौराणिक मान्यता
पौराणिक मान्यताओं के मुताबिक माघ मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी को सूर्य देव का जन्मदिन माना जाता है. ऐसे में माघी सप्तमी को सूर्य जयंती के नाम से भी जाना जाता है. आज के दिन सूर्य की उपासना करने से लोगों को सभी रोगों और कष्टों से मुक्ति मिलती है. सूर्य देव की कृपा से भक्तों को आरोग्य का वरदान मिलता है, साथ ही धन-धान्य और पुत्र रत्न की प्राप्ति का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. रथ सप्तमी या अचला सप्तमी के दिन सभी लोगों को स्नान करना चाहिए और सूर्य देव की उपासना करनी चाहिए. अचला सप्तमी के दिन चावल, तिल, दूर्वा, चंदन, फल आदि का दान करना श्रेयष्कर माना गया है. आज के दिन सूर्य देव को जल देना भी बहुत ही फलदायी माना गया है.

ये भी पढ़ें- अलीगढ़ के शाहजमाल में CAA के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन जारी, पुलिस ने किया केस दर्ज
CAA Protest: मंसूर अली पार्क में प्रदर्शन कर रही महिलाएं बोलीं- 'ये लड़ाई जारी रहेगी'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इलाहाबाद से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 1, 2020, 9:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर