Home /News /uttar-pradesh /

प्रयागराज: कोरोना के खिलाफ जंग में रेलवे की 130 आइसोलेशन कोच तैयार, मॉक ड्रिल

प्रयागराज: कोरोना के खिलाफ जंग में रेलवे की 130 आइसोलेशन कोच तैयार, मॉक ड्रिल

आगरा में लगातार बढ़ रहे हैं मामले

आगरा में लगातार बढ़ रहे हैं मामले

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे (North Central Railway) के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह के मुताबिक आइसोलेशन कोच की मॉक ड्रिल पूरी तरह से सफल रही है. अब आगे इसकी रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को भेजी जाएगी. जिसके बाद हेल्थ मिनिस्ट्री की ओर से फाइनल प्रोटोकॉल जारी किया जायेगा.

अधिक पढ़ें ...
प्रयागराज. देश में कोरोना (COVID-19) के संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने पर उन्हें आइसोलेट करने के लिए रेलवे की ओर से आइसोलेशन कोच (Isolation Coach) तैयार किए गए हैं. नार्थ सेन्ट्रल रेलवे (North Central Railway) ने भी पहले चरण में 130 आइसोलेशन कोच तैयार किए हैं. पूरी तरह से तैयार हो चुके इन आइसोलेशन कोच में कैसे कोरोना संक्रमित लोगों को आइसोलेट किया जायेगा? इसके लिए प्रयागराज मंडल के सूबेदारगंज रेलवे स्टेशन पर एक आइसोलेशन रैक को प्लेस कर मॉक ड्रिल (Mock Drill) कराई गई.

इस दौरान प्लेटफार्म पर आइसोलेशन कोच के रैक को प्लेस करने के बाद यहां आने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग की गई. इसके बाद कोरोना के संदिग्धों को कोच की बर्थ पर लिटाकर इलाज करने की भी मॉक ड्रिल की गई. इस मॉक ड्रिल के जरिए मेडिकल स्टाफ और रेलवे के अफसरों ने यह जानने की कोशिश की कि कैसे कोरोना के संक्रमितों की संख्या बढ़ने पर उन्हें इन आइसोलेशन कोचेज में रखा जायेगा और कैसे सोशल डिस्टैंसिंग को भी मेंटेन किया जायेगा.

अभी तक डिमांड नहीं आई, हमारी तैयारी पूरी: सीपीआरओ

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह के मुताबिक आइसोलेशन कोच की मॉक ड्रिल पूरी तरह से सफल रही है. अब आगे इसकी रिपोर्ट रेलवे बोर्ड को भेजी जाएगी. जिसके बाद हेल्थ मिनिस्ट्री की ओर से फाइनल प्रोटोकॉल जारी किया जायेगा. सीपीआरओ के मुताबिक फिलहाल कोरोना के संक्रमित मरीजों की संख्या नियंत्रण में बनी हुई है और अभी कहीं पर भी रेलवे की ओर से तैयार इन आइसोलेशन कोचेज की डिमांड नहीं आई है. लेकिन कोविड-19 की महामारी को देखते हुए रेलवे ने अपनी सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं.

देश भर में 5000 कोच तैयार

गौरतलब है कि कोरोना के संक्रमित मरीजों के बढ़ने पर अगर अस्पतालों में बनाये गए आइसोलेशन वार्ड कोरोना के मरीजों से फुल होते हैं तो रेलवे के इन आइसोलेशन वार्डों में कोरोना संदिग्ध मरीजों को आइसोलेट किया जायेगा. रेलवे ने इसके लिए देश भर में 20 हजार सेकेंड क्लास कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदले जाने की तैयारी शुरू की है. फर्स्ट फेज में रेलवे ने देश भर में 5000 कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने का काम पूरा किया गया है. आइसोलेशन वार्ड बनाने के लिए 15 साल से ज्यादा पुराने सेकेण्ड क्लास रेल कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदला गया है.

10 अप्रैल तक नॉर्थ सेंट्रल रेलवे ने तैयार की 130 कोच

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे ने भी 130 कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने का काम 10 अप्रैल तक पूरा कर लिया है. नार्थ सेन्ट्रल रेलवे में प्रयागराज, झांसी और आगरा मंडलों में 40 कोचेज को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का काम किया गया है. प्रयागराज के रेलवे कोच केयर सेन्टर में तैयार कोचेज में मास्क्यूटो नेट, हाई क्लवालिटी की टोटिंया, ग्रीन मैट, ट्रांसपैरेंट कर्टेन, के साथ ही एक टायलेट को बाथरुम में तब्दील किया गया है. एक आइसोलेशन कोच में 16 व्यक्तियों को आइसोलेट किये जाने की व्यवस्था की गई है. इन कोचेज में मेडिकल स्टाफ के भी रहने का पूरा इंतजाम किया गया है.

कोरोना से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए ऑक्जीजन सिलेंडर लगाने के लिए व्यवस्था कोचेज में ही की गई है. सेनेटाइजेशन के लिए ही आइसोलेशन कोचेज में उच्च गुणवत्ता की फिटिंग करायी गई है.

ये भी पढ़ें:

आगरा: तबलीगी जमात और पारस हॉस्पिटल ही नहीं, अब ये नए मरीज भी बने चुनौती

बुलंदशहर साधुओं की हत्या पर प्रियंका का ट्वीट, निष्पक्ष जांच की मांग

Tags: Corona Days, Indian railway, Lockdown. Covid 19, Prayagraj News, Uttarpradesh news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर