साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था ने राष्ट्रपति व पीएम मोदी को लिखा पत्र, मंदिरों को खोले जाने की मांग
Allahabad News in Hindi

साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था ने राष्ट्रपति व पीएम मोदी को लिखा पत्र, मंदिरों को खोले जाने की मांग
महंत नरेंद्र गिरी

पत्र के जरिए कहा गया है कि जिस तरह से आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खोले जाने का केन्द्र और राज्य सरकारों ने आदेश दिया है, उसी तरह से अब देश के सभी छोटे-बड़े मठ- मंदिरों को भी श्रद्धालुओं के लिए खोलने की अनुमति मिलनी चाहिए.

  • Share this:
प्रयागराज. साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (Akhil Bhartiya Akhara Parishad) ने लॉकडाउन (Lockdown) में बंद देश भर के मठ व मंदिरों को खोले जाने की मांग की है. अखाड़ा परिषद ने अपनी इस मांग को लेकर देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narebdra Modi) को एक पत्र भी भेजा है. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी और महामंत्री महंत हरिगिरी ने सभी पदाधिकारियों की ओर से राष्ट्रपति, पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर यह मांग की है. उन्होंने पत्र के जरिए कहा है कि जिस तरह से आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खोले जाने का केन्द्र और राज्य सरकारों ने आदेश दिया है, उसी तरह से अब देश के सभी छोटे-बड़े मठ- मंदिरों को भी श्रद्धालुओं के लिए खोलने की अनुमति मिलनी चाहिए.

वेतन देने में हो रही परेशानी

उन्होंने कहा है कि सभी मठ और मंदिर कोरोना से बचाव के लिए केन्द्र सरकार और डब्लूएचओ के निर्देशों का पूरी तरह से पालन भी करेंगे. महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि मंदिर खुलने पर मंदिर प्रबंधन और पुजारी मंदिरों में हैंडवाश, मास्क की व्यवस्था करेंगे और मंदिर में श्रद्धालुओं को दर्शन कराने के लिए निश्चित दूरी पर लाइनें लगवाकर सोशल डिस्टैंसिंग का भी पूरी तरह से पालन करायेंगे. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि कोरोना को लेकर पिछले डेढ़ माह से देश में लॉकडाउन है और लगभग दो माह से मंदिरों के कपाट बंद हैं. ऐसे में मंदिरों में पुजारियों और अन्य कर्मचारियों के वेतन देने में भी बहुत कठिनाई आ रही है. उन्होंने कहा है मंदिर खुलने से लोग यदि मंदिर में दर्शनों को जायेंगे तो अपने आराध्य से कोरोना को खत्म करने के लिए प्रार्थना भी करेंगे. उन्होंने कहा है कि सनातन परम्परा में लोगों का ऐसा विश्वास है कि आराधना से लोगों के कष्ट दूर होंगे और कोरोना का भी प्रभाव कम होगा. लेकिन मंदिर बंद होने से लोग अपने आराध्य से प्रार्थना भी नहीं कर पा रहे हैं.



मंदिर लेंगे लॉकडाउन के पालन की जिम्मेदारी
महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा है कि सरकार को मठ-मंदिर खोले जाने पर जल्द विचार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि मठ व मंदिरों के प्रबंधकों और पुजारियों की भी जिम्मेदारी होगी कि मंदिर खुलने पर वे सोशल डिस्टैंसिंग का श्रद्धालुओं से सख्ती से पालन करायें. महंत नरेन्द्र गिरी ने देश के गृह मंत्री से मांग की है कि हर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों को निर्देश दें कि सभी मठ मंदिर खोलने की व्यवस्था करें और अनुमति भी प्रदान करें. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने देश में कोरोना का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के पीएम मोदी के फैसले को भी सही ठहराया है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी द्वारा सही समय पर फैसले लेने से ही आज देश में कोरोना संक्रमण की स्थिति कई विकसित देशों से बेहतर है.

ये भी पढ़ें - 

नीतीश कुमार बोले, प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने की तैयारी करें सभी विभाग

Agra COVID-19 Update: एक पत्रकार समेत 2 की मौत, संक्रमितों की संख्या 678 हुई 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज