Home /News /uttar-pradesh /

प्रयागराज: रेप पीड़िता के गर्भपात के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गठित की मेडिकल बोर्ड, दिया यह निर्देश

प्रयागराज: रेप पीड़िता के गर्भपात के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गठित की मेडिकल बोर्ड, दिया यह निर्देश

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुलंदशहर के एसएसपी को मेडिकल कॉलेज आने-जाने के दौरान रेप पीड़िता और उसके साथ के लोगों की पूरी सुरक्षा देने का निर्देश दिया है

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुलंदशहर के एसएसपी को मेडिकल कॉलेज आने-जाने के दौरान रेप पीड़िता और उसके साथ के लोगों की पूरी सुरक्षा देने का निर्देश दिया है

Uttar Pradesh News: रेप पीड़िता ने सरकार से अनुमति मांगी थी लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने पर उनसे इलाहाबाद हाईकोर्ट की शरण ली है. 21 जुलाई को बुलंदशहर के सरकारी अस्पताल में मेडिकल जांच की गई थी. जांच में रेप पीड़िता को कुल 19 हफ्ते का गर्भ पाया गया है. याची इस अनचाहे गर्भ को गिराना चाहती है। जिसको लेकर रेप पीड़िता ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर अनचाहे गर्भ को गिराने की अनुमति मांगी है

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. इलाहाबाद हाईकोर्ट में एक रेप पीड़िता (Rape Victim) ने अपने 19 सप्ताह के अनचाहे गर्भ (Unwanted Pregnancy) को गिराने की अनुमति की मांग में याचिका दाखिल की है. हाईकोर्ट ने रेप पीड़िता की याचिका पर मेडिकल जांच बोर्ड (Medical Board) का गठन किया है. अदालत ने लाला लाजपत राय मेमोरियल अस्पताल, मेरठ के प्राचार्य को चार विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम द्वारा अगस्त में ही नीयत तिथि पर पीड़िता की मेडिकल जांच कराने का निर्देश दिया था. कोर्ट ने प्रथम अपर जिला जज मेरठ (Meerut) को सीलबंद लिफाफे में जांच रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है. अपर जिला जज मेरठ जांच रिपोर्ट दो सितंबर को हाईकोर्ट में पेश करेंगे.

हाईकोर्ट ने बुलंदशहर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) को मेडिकल कॉलेज आने-जाने के दौरान रेप पीड़िता और उसके साथ के लोगों की पूरी सुरक्षा देने का निर्देश दिया है. याचिका की अगली सुनवाई तीन सितंबर को होगी. रेप पीड़िता की याचिका पर जस्टिस एम.के गुप्ता और जस्टिस दीपक वर्मा की खंडपीठ ने यह आदेश दिया है.

अदालत ने कहा कि मेडिकल टर्मिनेशन प्रेग्नेंसी एक्ट 24 सप्ताह के गर्भपात की अनुमति देता है. ऐसा पीड़िता के मानसिक स्वास्थ्य को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए किया गया है. पीड़िता ने सरकार से अनुमति मांगी थी लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने पर पीड़िता ने हाईकोर्ट की शरण ली है. 21 जुलाई को बुलंदशहर के सरकारी अस्पताल में मेडिकल जांच की गई थी. जांच में रेप पीड़िता को कुल 19 हफ्ते का गर्भ पाया गया है. याची इस अनचाहे गर्भ को गिराना चाहती है जिसको लेकर रेप पीड़िता ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर अनचाहे गर्भ को गिराने की अनुमति मांगी है.

Tags: Allahabad high court, Prayagraj News, Pregnancy, Pregnant woman

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर