प्रयागराज में प्रियंका गांधी की आमद से सियासी अखाड़ा बना बसवार गांव, निषाद वोट बैंक को साधने की होड़

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के बसवार गांव पहुंचने से गरमाई सियासत

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के बसवार गांव पहुंचने से गरमाई सियासत

Prayagraj News: कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के कार्यकारी अध्यक्ष मनोज यादव ने कहा है कि पार्टी निषाद समाज की लड़ाई में पूरी तरह से उनके साथ है. प्रियंका गांधी वाड्रा ने पुलिस द्वारा जेसीबी से तोड़ी गई निषादों की नावों की मरम्मत के लिए 10 लाख की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है.

  • Share this:
प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज के यमुनापार इलाके में घूरपुर थाना क्षेत्र का बसवार गांव इन दिनों पॉलिटिकल पार्टियों के लिए सियासी अखाड़ा बनता जा रहा है. निषाद वोट बैंक को साधने के लिए कांग्रेस (Congress) और सपा समेत दूसरे राजनीतिक दलों ने एड़ी चोटी का जोर लगा दिया है. रविवार 21 फरवरी को कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा के बसवार गांव के दौरे के बाद कांग्रेस लगातार योगी सरकार पर हमलावर है. प्रियंका ने मंगलवार 23 फरवरी को ट्वीट कर एक बार फिर से मछुआरों के उत्पीड़न पर योगी सरकार को घेरने की कोशिश की है. वहीं मछुआरों के घाव पर सियासी मरहम लगाते हुए दस लाख की आर्थिक मदद देने का भी ऐलान कर दिया.

कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के कार्यकारी अध्यक्ष मनोज यादव ने कहा है कि कांग्रेस निषाद समाज की इस लड़ाई में पूरी तरह से उनके साथ है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने निषादों की पुलिस द्वारा जेसीबी से तोड़ी गई नावों की मरम्मत के लिए जहां दस लाख की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है. वहीं उनके अधिकारों के लिए संघर्ष का भी ऐलान किया है. उन्होंने कहा है कि निषाद समाज की आजीविका नदियों पर आधारित है और कांग्रेस पार्टी निषादों को बालू खनन के लिए योगी सरकार से निषादराज कोआपरेटिव सोसाइटी के गठन की भी मांग करती है.

कांग्रेस पिछड़ा वर्ग विभाग के कार्यकारी अध्यक्ष मनोज यादव ने कहा कि निषाद समाज को उनका हक दिलाने के लिए कांग्रेस जल्द ही प्रयागराज से वाराणसी के बीच "नदी अधिकार यात्रा" भी निकालेगी. जिसके जरिए निषादों के अधिकारों को लड़ाई लड़ने के साथ ही उन्हें उनके अधिकारों के प्रति जागररूक भी किया जाएगा.

बीजेपी सांसद ने लगाया ओछी राजनीति का आरोप


वहीं फूलपुर संसदीय सीट से बीजेपी सांसद केशरी देवी पटेल ने प्रियंका गांधी वाड्रा पर निषादों को गुमराह करने और ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का जनाधार पूरी तरह से खत्म हो गया है. इसीलिए छोटी-मोटी घटनाओं को भी कांग्रेस पार्टी तूल देने में लगी है. बीजेपी सांसद ने कहा कि निषाद समाज के लिए केन्द्र की मोदी और प्रदेश की योगी सरकार दोनों ही काम कर रही हैं. उन्होंने कहा है कि चार फरवरी को निषादों की तोड़ी गई नावों को भी योगी सरकार ने बनवाने का प्रशासन को निर्देश दिया है. जिसके बाद नावें ठीक भी कराई जा रही हैं. लेकिन कांग्रेस बेवजह मामले को तूल देने में लगी है. लेकिन कांग्रेस को इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है.

Youtube Video


ये है पूरा मामला





गौरतलब है कि अवैध खनन की सूचना पर पुलिस, राजस्व और खनन की टीमों ने चार फरवरी को बसवार गांव में यमुना नदी के किनारे छापेमारी की थी. जिस दौरान निषादों और पुलिस प्रशासन की टीमों के बीच झड़प हो गयी थी. निषादों का आरोप है कि पुलिस ने महिलाओं और बच्चों के साथ ज्यादती की और उनकी नावें जेसीबी मशीनों से जबरन तोड़ दी. इस मामले में दर्जनों नामजद और लगभग दो सौ अज्ञात के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा भी दर्ज किया है. लेकिन निषाद समाज से जुड़ी इस घटना को लेकर सभी पार्टियां अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज