होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayagraj Flood: गंगा उफान पर, छोटा बघाड़ा इलाके के घरों में घुसा पानी, लोगों का पलायन शुरू

Prayagraj Flood: गंगा उफान पर, छोटा बघाड़ा इलाके के घरों में घुसा पानी, लोगों का पलायन शुरू

गंगा नदी का पानी बस्ती में घुस गया है.

गंगा नदी का पानी बस्ती में घुस गया है.

Prayagraj Flood: प्रयागराज के छोटा बघाड़ा इलाके में गंगा नदी का पानी पहुंचने के बाद से लोगों का पलायन भी धीरे-धीरे शुरू ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- योगेश मिश्रा

प्रयागराज. गंगा नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से लोगों की समस्याएं भी बढ़ने लगी हैं. प्रयागराज के छोटा बघाड़ा इलाके में गंगा नदी का पानी पहुंचने के बाद से लोगों का पलायन भी धीरे-धीरे शुरू हो गया है. दरअसल छोटा बघाड़ा वह जगह है जहां बाहर से पढ़ने आए छात्र छात्राएं अधिक संख्या में रहते हैं. जबकि लगभग 5 लाख के करीब जनसंख्या हर साल बाढ़ से यहां प्रभावित होती है. लोगों ने बताया कि साल 2013 के बाद से हर वर्ष यहां बाढ़ आती है और उन्हें अपना घर छोड़कर सरकारी कैंप में रहने पर मजबूर होना पड़ता है.

न्यूज़ 18 लोकल की टीम से बात करते हुए स्थानीय लोगों ने बताया कि हर बार अधिकारी और नेता आकर आश्वासन दे जाते हैं, लेकिन अब तक कोई भी इंतजाम नहीं हो पाया है जिससे इस इलाके के लोगों को बाढ़ से राहत मिल सके. स्थानीय लोगों के साथ-साथ यहां छात्र-छात्राएं भी अधिक संख्या में रहते हैं जो बाढ़ के समय से पलायन कर जाते हैं. लोगों ने बताया कि बाढ़ की वजह से पानी सड़कों पर भर जाता है जिसकी वजह से यहां नाव भी चलने लगती हैं. दरअसल बाढ़ का सबसे बड़ा कारण बरसात के समय में डैम खोल देना है. डैम खुलने की वजह से गंगा नदी का जलस्तर बढ़ जाता है. वहीं, संगम क्षेत्र होने की वजह से यह पानी पूरे फ्लो के साथ बह नहीं पाता और पानी का ठहराव हो जाता है, जो रिहायशी इलाकों की तरफ बढ़ने लगता है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

छात्र छात्राओं को हो रही खास दिक्‍कत
स्‍थानीय लोगों ने बताया कि बाढ़ के समय में सरकार के द्वारा कैंप बनाए जाते हैं जहां वह रहते हैं. वहीं, बाहर से आए हुए छात्र छात्राओं ने बताया कि वह ऐसे समय में क्षेत्र से पलायन कर जाते हैं.उनका कहना है कि बाढ़ के समय में कई बार परीक्षा की तारीखें होती हैं जिसकी वजह से उन्हें समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

Tags: Allahabad news, Prayagraj Flood

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें