होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayagraj Flood: प्रयागराज में बाढ़ का कहर, घरों में घुसा नदी का पानी, लोग पलायन को मजबूर

Prayagraj Flood: प्रयागराज में बाढ़ का कहर, घरों में घुसा नदी का पानी, लोग पलायन को मजबूर

Prayagraj flood: प्रयागराज में गंगा और यमुना नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. वहीं, दोनों नदियों के उफान की वजह से तटीय ...अधिक पढ़ें

रिपोर्टर: योगेश मिश्रा

प्रयागराज. यूपी के प्रयागराज में पिछले दो दिनों में गंगा और यमुना नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. इस वजह से नदी का पानी लोगों के घरों तक पहुंच गया है. दोनों नदियों के उफान की वजह से तटीय इलाकों में बसे मोहल्ले बाढ़ की चपेट में आ गए हैं. यही नहीं, लोगों के घरों के पहले तल (First Floor) पूरी तरह से जलमग्न हो चुके हैं. इस वजह से लोगों को पलायन करने पर मजबूर होना पड़ रहा है. वहीं, बहुत से ऐसे लोग भी हैं जो अपने अपने घरों की छतों पर ही रहने को मजबूर हैं.

इस बीच न्यूज़ 18 लोकल की टीम ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र गंगा बैराज का जायजा लिया. इस दौरान देखा गया कि लोगों के घरों में पानी भर गया है. बाढ़ की वजह से लोग अपने घरों को छोड़ कर पलायन कर गए हैं. लोगों ने बताया कि हर साल यहां बाढ़ आती है जिसकी वजह से उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है. जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त हो जाता है. साथ ही बताया कि हम लोग घर को छोड़कर किसी शेल्टर होम में चले जाते हैं या फिर घर की छतों पर ही रहने को मजबूर होते हैं. वहीं, बाढ़ के पानी की वजह से काफी सामान बर्बाद हो जाता है.

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

बच्चों की पढ़ाई
इसके अलावा लोगों ने बताया कि बच्चों की पढ़ाई हो या फिर दफ्तर दोनों इससे प्रभावित होते हैं. नदी का जलस्तर इतना बढ़ जाता है कि बिना नाव की मदद के घर से बाहर कदम भी नहीं रख सकते. बाढ़ आने पर बिजली और पानी दोनों की सप्लाई ठप हो जाती है.

वहीं, लोगों का कहना है कि अचानक से ही बांध का पानी खोल देने से जलस्तर तेजी से बढ़ने लगता है. यदि उसकी जानकारी क्षेत्र में रहने वाले लोगों को पहले ही दे दी जाए तो उनका नुकसान नहीं होगा और वो लोग समय से ही अपना सामान समेटकर सुरक्षित स्थान पर जा पाएंगे. उधर जिला प्रशासन का दावा है कि 12 बाढ़ राहत शिविर बनाए गए हैं और 98 बाढ़ चौकियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया गया है.

Tags: Allahabad news, Flood alert, Prayagraj Flood

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें