Home /News /uttar-pradesh /

प्रयागराज में गंगा और यमुना उफान पर, बाढ़ में डूबे श्मशान घाट, सड़क पर हो रहा अंतिम संस्कार

प्रयागराज में गंगा और यमुना उफान पर, बाढ़ में डूबे श्मशान घाट, सड़क पर हो रहा अंतिम संस्कार

जगह की कमी के चलते लाइन लगाकर लोग शवों के अंतिम संस्कार के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं.

जगह की कमी के चलते लाइन लगाकर लोग शवों के अंतिम संस्कार के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं.

Prayagraj Flood News: दारागंज घाट पर संगम से नाग वासुकी जाने वाली सड़क पर चितायें सज रही हैं. श्मशान घाट के पानी में डूबने से सड़क पर ही लोगों को मजबूरन शवों का अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है.

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में गंगा और यमुना (Ganga And Yamuna) दोनों नदियां पूरे उफान पर हैं. दोनों नदियां बमुश्किल डेंजर लेवल से एक मीटर नीचे बह रही हैं. गंगा और यमुना नदियों के ओवरफ्लो बाढ़ का पानी अब तटीय इलाकों में प्रवेश कर गया है. इसके चलते जाति मोहल्लों में कई मकान डूब गए हैं. वहीं, सैकड़ों लोगों को अब तक विस्थापित कर बाढ़ शिविरों में भेजा गया है. गंगा और यमुना नदियों में आई बाढ़ से श्मशान घाट भी डूब गए हैं. रसूलाबाद, छतनाग और दारागंज श्मशान घाटों (Daraganj Crematorium) के डूब जाने के कारण शवों के अंतिम संस्कार में दिक्कतें आनी शुरू हो गई हैं.

दारागंज घाट पर संगम से नाग वासुकी जाने वाली सड़क पर चितायें सज रही हैं. सड़क पर ही लोगों को मजबूरन शवों का अंतिम संस्कार करना पड़ रहा है. जगह की कमी के चलते लाइन लगाकर लोग शवों के अंतिम संस्कार के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. सिंचाई विभाग ने जिस तरह का अलर्ट जारी किया है उसके मुताबिक, आज देर शाम तक गंगा यमुना नदिया डेंजर लेवल को पार कर सकती हैं. गंगा और यमुना नदियों का संगम में डेंजर लेवल 84.734 मीटर है. शनिवार सुबह आठ बजे गंगा नदी का फाफामऊ में जल स्तर 83.86 मीटर और छतनाग में 83.06 मीटर रिकॉर्ड किया गया है. जबकि नैनी में यमुना नदी का जलस्तर 83.62 मीटर दर्ज किया गया है.

सुरक्षित स्थानों की ओर अपनी चौकियां बना रहे हैं
बीते 24 घंटे में गंगा नदी का फाफामऊ में जलस्तर 98 सेंटीमीटर और छतनाग में 95 सेंटीमीटर बढ़ा है. वहीं, नैनी में यमुना नदी का जलस्तर 93 सेंटीमीटर बढ़ा है. बीते 24 घंटे में गंगा नदी फाफामऊ में 4 सेंटीमीटर प्रति घंटे और छतनाग में 3 सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रही है. वहीं, नैनी में यमुना नदी का जलस्तर भी लगभग 4 सेंटीमीटर प्रति घंटे के हिसाब से बढ़ रहा है. जिस रफ्तार से दोनों नदियों का जलस्तर बढ़ रहा है, आज शाम तक डेंजर लेवल पार करने की उम्मीद है. जिसके बाद शवों के अंतिम संस्कार में लोगों को और ज्यादा दिक्कतें पेश आ सकती हैं. लोगों को बांध पर शवों का अंतिम संस्कार करना पड़ सकता है. वहीं, दारागंज में श्मशान घाट डूब जाने के बाद लकड़ी के टाल भी हटाए जा रहे हैं. श्मशान घाट पर रहने वाले डोम और कर्मकांड कराने वाले पुरोहित भी सुरक्षित स्थानों की ओर अपनी चौकियां बना रहे हैं.

Tags: Flood, Ganga, River Yamuna, Uttar pradesh news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर