बॉलीवुड के इस्लामीकरण होने के BJP सांसद के आरोपों को साधु-संतों का मिला समर्थन

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी बॉलीवुड के इस्लामीकरण से चिंतित हैं
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी बॉलीवुड के इस्लामीकरण से चिंतित हैं

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (Mahant Narendra Giri) ने कहा कि बॉलीवुड (Bollywood) में इस्लामीकरण का पूरी तरह से बोलबाला हो गया है. जिसका खामियाजा दूसरे धर्मों को मानने वाले नवोदित कलाकारों को भुगतना पड़ रहा है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 4:03 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के कन्नौज से बीजेपी के सांसद सुब्रत पाठक (BJP MP Subrat Pathak) के बॉलीवुड (Bollywood) पर इस्लामीकरण (Islamic) करने के आरोपों का साधु-संतों ने समर्थन किया है. साधु-संतों की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (Mahant Narendra Giri) ने बीजेपी सांसद के बयान का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि बॉलीवुड में इस्लामीकरण का पूरी तरह से बोलबाला हो गया है. जिसका खामियाजा दूसरे धर्मों को मानने वाले नवोदित कलाकारों को भुगतना पड़ रहा है. उन्होंने कहा है कि इसके चलते फिल्म इंडस्ट्री में दूसरे धर्मों के कलाकार या तो सफल नहीं हो पाते या फिर सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की तरह उनकी हत्या करवा दी जाती है.

महंत गिरी ने कहा कि बॉलीवुड में इस्लामीकरण होने के कारण ही हमारे संत-महात्माओं और देवी-देवताओं को हमेशा फिल्मों में गलत तरह से दिखाया जाता है. जबकि मुस्लिम निर्माता-निर्देशक कभी अपने मौलवी, मौलानाओं और इस्लाम धर्म को गलत नहीं दिखाते. उन्होंने कहा कि जब हमारे देश में फिल्मों का दौर शुरू हुआ तो ऊं नम: शिवाय से फिल्मों की शुरुआत होती थी. लोग भी साधु-संतों का सम्मान करते थे और उनके बताए मार्ग का अनुसरण कर फिल्मों में आते थे.

CM योगी का नोएडा में फिल्मसिटी बनाने का फैसला सराहनीय



महंत नरेंद्र गिरी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नोएडा में फिल्मसिटी बनाने के फैसले को सराहनीय कदम बताया. उन्होंने कहा कि इससे हमारे कलाकारों को फिल्मों में काम और सम्मान दोनों मिलेगा. साथ ही इससे प्रदेश में रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे. उन्होंने उम्मीद जताई कि यूपी में जो फिल्में बनेंगी उनमें भारत की संस्कृति और सभ्यता की झलक भी दिखेगी और यहां पर एक धर्म विशेष (इस्लाम) का साम्राज्य भी नहीं होगा. यहां कलाकार अपनी प्रतिभा के बल पर आगे आएंगे और उन्हें फिल्मों में काम करने के बेहतर अवसर मिलेंगे.
साथ ही महंत नरेंद्र गिरी ने मांग उठाई कि बॉलीवुड में भी कुछ खास लोगों का वर्चस्व खत्म होना चाहिए, ताकि सभी लोगों को समान रुप से फलने-फूलने का अवसर मिले. उन्होंने कहा है कि महाराष्ट्र की सरकार और फिल्म इंडस्ट्री के स्थापित कलाकारों भी इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि बॉलीवुड में इस्लामीकरण का बोलबाला न हो, क्योंकि वास्तव में कलाकारों की कोई जाति नहीं होती है और कलाकार सबका होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज