होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Prayag News: माघ मेले में मौनी बाबा के निर्जल अनशन का 5वां दिन, परिक्रमा की लिखित अनुमति को अड़े

Prayag News: माघ मेले में मौनी बाबा के निर्जल अनशन का 5वां दिन, परिक्रमा की लिखित अनुमति को अड़े

मौनी बाबा

मौनी बाबा

सगरा आश्रम पीठाधीश्वर अभय चैतन्य मुनि जी महाराज को माघ मेला में चक्रवर्ती परिक्रमा करने से रोक दिया गया है. इसके विरोध ...अधिक पढ़ें

    रिपोर्ट : अमित सिंह

    प्रयाग. प्रयाग में चल रहे माघ मेले में इन दिनों मौनी बाबा अनशन पर बैठे हुए हैं. सगरा आश्रम पीठाधीश्वर अभय चैतन्य मुनि जी महाराज को माघ मेला में चक्रवर्ती परिक्रमा करने से रोक दिया गया है. इसके विरोध में मोनी बाबा 21 जनवरी से अनशन पर हैं. आज पांचवें दिन भी उन्होंने जल तक ग्रहण नहीं किया है.

    बता दें कि स्नान ध्यान, जप-तप, पूजा- आरती, पंडाल में भंडारा सब रुका हुआ है. उनका कहना है कि जब तक प्रशासन हमें लेटकर परिक्रमा करने की लिखित अनुमति नहीं देता, तब तक हम जल तक ग्रहण नहीं करेंगे. चक्रवर्ती परिक्रमा से आशय है कि लेटकर गोल-गोल जमीन पर घूम कर जाना.

    आपके शहर से (इलाहाबाद)

    इलाहाबाद
    इलाहाबाद

    12 से अधिक संतों का समर्थन

    बाबा जी अपने पंडाल में धरने पर बैठे हैं. 12 से अधिक संत उनका समर्थन दे रहे हैं. हालांकि मेला प्रशासन ने उनसे संपर्क किया और अनशन तोड़ने की बात कही. लेकिन बाबा ने इस बात को सिरे से खारिज कर दिया है.

    परिक्रमा करने से पुलिस ने रोका

    मौनी बाबा का कहना है कि खाक चौक के इंस्पेक्टर ने 20 जनवरी की शाम को उनसे पूछा था कि आप परिक्रमा करते हुए स्नान को कब जाएंगे. उन्होंने सुबह 7 बजे जाने की बात कही थी. इसके बाद सारी तैयारियां हो गईं, संत महात्मा भी आ गए. लेकिन फिर इंस्पेक्टर ने मौखिक आदेश पर परिक्रमा करने से रोक लगा दी. ऐसे में जब तक मुझे लिखित अनुमति नहीं मिल जाती, तब तक मैं अनशन पर बैठा रहूंगा.

    42 सालों से नहीं ग्रहण किया अन्न

    मौनी बाबा ने बताया कि वह देश की रक्षा में लापरवाही, आतंकवाद, गोरक्षा में कोताही, पर्यावरण असंतुलन, देश की गिरती अर्थव्यवस्था, कन्या भ्रूण हत्या, दहेज हत्या के खिलाफ 38 साल से अनुष्ठान कर रहे हैं. 42 साल से उन्होंने अन्न ग्रहण नहीं किया है. केवल एक टाइम फल और जल लेकर अपनी दिनचर्या पूर्ण करते हैं. पूरे कल्पवास के दौरान 5 बार चक्रवर्ती परिक्रमा कर संगम तक जाते हैं. यह 590वीं परिक्रमा होती, जिसे प्रशासन ने रोक दिया है.

    Tags: Allahabad news, Uttar Pradesh News Hindi

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें