Home /News /uttar-pradesh /

UP में नाम बदलने को लेकर सियासत गर्म, अखिलेश के आरोपों पर योगी सरकार के मंत्री का पलटवार

UP में नाम बदलने को लेकर सियासत गर्म, अखिलेश के आरोपों पर योगी सरकार के मंत्री का पलटवार

कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि बीजेपी सरकार के द्वारा शहरों और जिले के नाम बदलकर उन्हें दोबारा प्राचीन और पौराणिक नाम दिया गया है

कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि बीजेपी सरकार के द्वारा शहरों और जिले के नाम बदलकर उन्हें दोबारा प्राचीन और पौराणिक नाम दिया गया है

Uttar Pradesh News: योगी सरकार के प्रवक्ता के तौर पर बोलते हुए मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि अखिलेश यादव और मायावती शहरों के नाम बदलने को लेकर पहले ही नूरा-कुश्ती करते रहे हैं. जबकि बीजेपी सरकार के द्वारा नाम बदलकर इन्हें दोबारा प्राचीन और पौराणिक नाम दिया गया है

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश में शहरों और जिलों के नाम बदलने को लेकर सियासत तेज हो गई है. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) द्वारा इसे लेकर योगी सरकार पर लगाये आरोपों पर सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थ नाथ सिंह (Siddharth Nath Singh) ने पलटवार किया है. उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव और मायावती शहरों के नाम बदलने को लेकर पहले ही नूरा-कुश्ती करते रहे हैं. जबकि बीजेपी सरकार (BJP Government) के द्वारा नाम बदलकर इन्हें दोबारा प्राचीन और पौराणिक नाम दिया गया है.

सिद्धार्थ नाथ ने कहा कि चाहे इलाहाबाद हो या फैजाबाद, या फिर कोई और शहर के नाम बदलने की बात रही हो, राज्य सरकार ने इन शहरों के पौराणिक नाम दोबारा रखे हैं. उन्होंने कहा कि देश में गजनी के लोग आये, उन्होंने जो नाम बनाये, हम उसी पर चलते रहे. मगर भारत की अपनी संस्कृति और इतिहास है इसलिए हमें गजनी से संस्कृति लेने की आवश्यकता नहीं है. वो संस्कृति एसपी और बीएसपी को ही प्यारी हो.

वहीं, सुल्तानपुर जिले का नाम बदलकर कुश भवनपुर किए जाने को लेकर उन्होंने कहा कि ऐसा प्रस्ताव आया जरुर है. लेकिन इस पर फैसला कैबिनेट की बैठक में लिया जाएगा. जबकि मिर्जापुर और अलीगढ़ जिले का नाम बदलने को लेकर सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि जनता से जो मांग आयेगी, सरकार उस पर फैसला करेगी.

Tags: Akhilesh yadav, Mayawati, Prayagraj News, Siddhartha Nath Singh

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर