Prayagraj: नैनी सेंट्रल जेल में भी फैला कोरोना संक्रमण, जेलर व दो डिप्टी जेलर समेत 123 कैदी मिले पॉज़िटिव

वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पाण्डेय,  नैनी सेंट्रल जेल

वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पाण्डेय, नैनी सेंट्रल जेल

Naini Central Jail: कोरोना संक्रमण की इस चुनौती से निपटने के लिए जेलों में जहां खास इंतजाम भी किए जा रहे हैं, वहीं जेलों के अंदर कोविड केयर सेंटर भी बनाये गए हैं. इसके साथ ही कैदियों को कोरोना से बचाव के लिए मास्क, सेनेटाइजर भी मुहैया कराया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 28, 2021, 9:14 PM IST
  • Share this:
प्रयागराज. कोरोना की सेकेंड वेब (Corona Second Wave) ने अब यूपी की जेलों (UP Jails) को भी अपनी चपेट में ले लिया है. प्रयागराज (Prayagraj) की नैनी सेंट्रल जेल (Naini Central Jail) में क्षमता से दोगुना बंद कैदियों में से जहां 123 कैदी कोरोना संक्रमित पाये गए हैं. वहीं जेल के एक जेलर, दो डिप्टी जेलर और एक दर्जन से ज्यादा वार्डरों के कोरोना संक्रमित होने से हड़कंप मचा हुआ है. इतना ही नहीं कई जेल कर्मचारियों और अधिकारियों के परिवारों तक कोरोना संक्रमण पांव पसार चुका है. हांलाकि राहत की बात ये है कि नैनी सेंट्रल जेल में कोरोना के संक्रमण से अभी तक किसी कैदी की मौत नहीं हुई है.

कोरोना संक्रमण की इस चुनौती से निपटने के लिए जेलों में जहां खास इंतजाम भी किए जा रहे हैं, वहीं जेलों के अंदर कोविड केयर सेंटर भी बनाये गए हैं. इसके साथ ही कैदियों को कोरोना से बचाव के लिए मास्क, सेनेटाइजर भी मुहैया कराया जा रहा है. जबकि उनके खानपान में बदलाव किए गए ताकि कोरोना के संक्रमण से उन्हें बचाया जा सके. इसके साथ ही कैदियों का वैक्सीनेशन भी कराया जा रहा है.

Youtube Video


123 कैदी संक्रमित
कोरोना का संक्रमण नैनी सेंट्रल जेल प्रयागराज तक पहुंच गया है. नैनी सेंट्रल जेल में बंद 114 पुरुष और नौ महिला कैदी कोरोना संक्रमित पाये गए हैं. जिन्हें तत्काल आइसोलेट कर 120 की क्षमता वाले कोविड केयर सेंटर में उनका इलाज किया जा रहा है. जेल में महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग-अलग कोविड केयर सेंटर बनाये गए हैं. जहां पर उन्हें रखकर उनका इलाज किया जा रहा है. कोरोना मरीजों के लिए बनाये गए कोविड केयर सेंटर में हेल्थ वर्करों के साथ ही डॉक्टरों की तैनाती की गई है. इसके साथ ही ऑक्सीजन का भी इंतजाम किया गया है. कोरोना संक्रमित कैदियों के खानपान में भी बड़ा बदलाव किया गया है. उन्हें भोजन में हाई प्रोटीन के साथ काढ़ा भी दिया जा रहा है. ताकि कोरोना के खिलाफ जंग में वे कोरोना की महामारी को हरा सकें। इसके साथ ही कैदियों को सफाई के लिए साबुन भी मुहैया कराया जा रहा है.

क्षमता से ज्यादा कैदी

वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पाण्डेय के मुताबिक कैदियों की तबीयत बिगड़ने या फिर ऑक्सीजन लेवल कम होने पर उन्हें मेडिकल कालेज के कोविड लेवल थ्री अस्पताल एसआरएन में रेफर किया जा रहा है. बुजुर्ग कैदियों का प्रतिदिन ऑक्सीजन लेवल भी चेक किया जाता है. इसके साथ ही कैदियों को पब्लिक एड्रेस सिस्टम से कोविड को लेकर जागरुक भी किया जाता है. हांलाकि नैनी सेन्ट्रल जेल में 2060 कैदियों को रखने की क्षमता है. लेकिन मौजूदा समय में 4275 कैदियों को जेल में रखे जाने से कोरोना के संक्रमण का खतरा काफी बढ़ गया है. वरिष्ठ जेल अधीक्षक पीएन पाण्डेय के मुताबिक जेलों में कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए महानिदेशक जेल के निर्देशों और केन्द्र सरकार की गाइड लाइन का भी सख्ती से पालन कराया जा रहा है.



जेल अधिकारी वो कर्मचारी भी संक्रमित

वहीं कैदियों के साथ ही साथ जेलों के अधिकारी और कर्मचारी भी कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं. नैनी सेंट्रल जेल के एक जेलर, दो डिप्टी जेलर, 15 वार्डर के साथ ही कई कर्मचारियों और अधिकारियों के परिजन भी कोरोना संक्रमित पाये गए हैं. कोरोना के खतरे को देखते हुए जेलों में हर दिन एंटीजेन और आरटीपीसीआर जांच करायी जा रही है. वरिष्ठ जेल अधीक्षक का कहना है कि जेलों में कर्मचारियों के साथ ही राशन सप्लाई के लिए आने वाली गाड़ियों के चलते बाहरी लोगों का आवागमन भी बना रहता है. जिससे भी कैदियों में संक्रमण का खतरा बना रहता है.

सभी कैदियों की हो रही जांच

बहरहाल, कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए नैनी सेंट्रल जेल को पूरी तरह से अलर्ट मोड में रखा गया है. जेल में नये आने वाले कैदियों की जहां पहले एंटीजेन जांच करायी जाती है और फिर उसे अस्थायी जेल में रखा जाता है. वहीं आरटीपीसीआर रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद ही कैदियों को मुख्य कारागार में शिफ्ट किया जाता है. इसके साथ ही जेल परिसर को समय-समय पर सेनेटाइज भी कराया जा रहा है. इस समय जेल में बंद कैदियों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए जेल प्रशासन ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज