प्रयागराज: स्वामी आनंद गिरी ने अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरी पर लगाए गंभीर आरोप, 2 संतों की मौत पर किया सनसनीखेज खुलासा

स्वामी आनंद गिरी और महंत नरेंद्र गिरी के बीच विवाद बढ़ गया है।

स्वामी आनंद गिरी और महंत नरेंद्र गिरी के बीच विवाद बढ़ गया है।

Prayagraj News: स्वामी आनंद गिरी ने अखाड़े से जुड़े संपत्ति के विवाद में अपनी भी हत्या की आशंका जताई है. उन्होंने कहा कि अखाड़े की संपत्ति सैकड़ों वर्षो पुरानी है. हमें इसका संवर्धन और संरक्षण करना चाहिए न कि बर्बाद.

  • Share this:

प्रयागराज. पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी से निष्कासित किए जाने के बाद स्वामी आनंद गिरी (Swami Anand Giri) और उनके गुरु अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के बीच तकरार बढ़ती ही जा रही है. निष्कासन के बाद एक दूसरा वीडियो जारी कर स्वामी आनंद गिरी ने अखाड़े की संपत्ति को लेकर गंभीर आरोप लगाए हैं. उन्होंने आरोप लगाया है कि संपत्ति के विवाद में ही निरंजनी अखाड़े से जुड़े दो युवा संतों ने आत्महत्या कर ली थी और संदिग्ध परिस्थितियों में उनके शव पाए गए थे. उन्होंने निरंजनी अखाड़े से जुड़े महंत आशीष गिरी जी महाराज और महंत दिगंबर गंगा पुरी जी महाराज की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौतों की जांच कराए जाने की भी मांग की है.

स्वामी आनंद गिरी ने अखाड़े से जुड़े संपत्ति के विवाद में अपनी भी हत्या की आशंका जताई है. उन्होंने कहा कि अखाड़े की संपत्ति सैकड़ों वर्षो पुरानी है. हमें इसका संवर्धन और संरक्षण करना चाहिए न कि इसको बर्बाद करना चाहिए. स्वामी आनंद गिरी ने चार मिनट चौबीस सेकंड के जारी अपने इस वीडियो में कहा कि अखाड़े की सम्पत्ति को बर्बाद करने से रोकने को लेकर ही पूरा विवाद शुरू हुआ है. स्वामी आनंद गिरी ने कहा कि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि उनके गुरु हैं और आगे भी गुरु ही रहेंगे. ऐसा लग रहा है कि किसी के दबाव में अखाड़े की संपत्ति को वे नुकसान पहुंचा रहे हैं. इसे रोका जाना चाहिए.

स्वामी आनंद गिरी ने कहा नहीं है रहने की जगह

आनंद गिरी ने कहा कि इस मामले में उन्हें आनन-फानन में दोषी ठहरा दिया गया और अखाड़े से निष्कासित भी कर दिया गया. स्वामी आनंद गिरी ने कहा कि अखाड़े से निष्कासित होने के बाद अब वह पूरी तरह से सड़क पर आ गए हैं. मेरे पास रहने के लिए कोई ठिकाना नहीं है और कोई साधु संत भी अपने साथ बैठाना नहीं चाहता है. उन्होंने कहा है कि रुड़की में अपने द्वारा किए गए धन अर्जन और शिष्यों के सहयोग से एक आश्रम बनवा रहा था. उसे भी सील करा दिया गया है. स्वामी आनंद गिरी ने कहा कि अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि और अखाड़ा परिषद के महामंत्री और जूना अखाड़े के संरक्षक स्वामी हरी गिरी महाराज का आदेश सर आंखों पर है.
सीएम योगी से निष्पक्ष जांच की मांग

स्वामी आनंद गिरी ने कहा कि किसी को नुकसान पहुंचाने के लिए जीवन नहीं जीते हैं. जहां तक साधना और जप तप की बात है तो मेरा पूरा जीवन ही साधना का रहा है. स्वामी आनंद गिरी ने खुद को सनातन धर्म का प्रेमी बताते हुए योगी सरकार से पूरे मामले में हस्तक्षेप और न्याय की मांग की है. उन्होंने निष्‍पक्ष कार्रवाई को लेकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार पूरी आस्था जताई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज