लॉकडाउन खुलने के बाद नार्थ सेन्ट्रल रेलवे आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस से करेगा ट्रेनों का संचालन
Allahabad News in Hindi

लॉकडाउन खुलने के बाद नार्थ सेन्ट्रल रेलवे आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस से करेगा ट्रेनों का संचालन
अभी तक ट्रेनों का संचालन मैनुअल विश्लेषण के आधार पर किया जाता है. इस नयी तकनीक के इस्तेमाल में किस रुट पर कितनी ट्रेनों को चलाने की जरुरत है, इसके साथ ही बर्थ रिजर्वेशन से लेकर आपरेटिंग का काम भी आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से किया जायेगा.

अभी तक ट्रेनों का संचालन मैनुअल विश्लेषण के आधार पर किया जाता है. इस नयी तकनीक के इस्तेमाल में किस रुट पर कितनी ट्रेनों को चलाने की जरुरत है, इसके साथ ही बर्थ रिजर्वेशन से लेकर आपरेटिंग का काम भी आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से किया जायेगा.

  • Share this:
प्रयागराज. लॉकडाउन (Lockdown) के चलते पार्सल और गुड्स ट्रेनों को छोड़कर सभी ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से बंद है. ऐसे समय में रेलवे (Railways) अपने सिस्टम को अपग्रेड करने और नई तकनीक के अधिक से अधिक इस्तेमाल पर जोर दे रहा है. लॉकडाउन खुलने के बाद नार्थ सेन्ट्रल रेलवे आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस या एडवांस कम्प्यूटिंग (Advance Computing System) के माध्यम से ट्रेनों के संचालन की तैयारी कर रहा है. अभी तक ट्रेनों का संचालन मैनुअल विश्लेषण के आधार पर किया जाता है. इस नयी तकनीक के इस्तेमाल में किस रुट पर कितनी ट्रेनों को चलाने की जरुरत है, इसके साथ ही बर्थ रिजर्वेशन से लेकर आपरेटिंग का काम भी आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से किया जायेगा.

ट्रेनों के संचालन के लिए अलग से कोई कमांड देने की जरुरत नहीं

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे के सीपीआरओ अजीत कुमार सिंह के मुताबिक आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स में कम्प्यूटर में ट्रेनों की संख्या, ट्रैक की क्षमता समेत रुट की पूरी जानकारी फीड रहेगी. जिसके आधार पर कम्प्यूटर अपने हिसाब से ट्रेनों का परिचालन करेगा. आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स के तहत ट्रेनों के संचालन के लिए अलग से कोई कमांड देने की जरुरत नहीं पड़ेगी. इसके लिए प्रयागराज मंडल के टुंडला में सेन्ट्रल ट्रेन कंट्रोल सिस्टम लगाया है. लॉकडाउन के बाद टुंडला से कानपुर के बीच ट्रेनों का परिचालन ट्रायल के तौर पर आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से किया जायेगा.



सीपीआरओ के मुताबिक इसके सफल रहने पर ट्रैक मेंनटीनेंस और कामर्शियल गतिविधियों के आंकड़े को भी आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से कराने की तैयारी है. विदेशों में आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से ट्रेनों का संचालन होता है. लॉकडाउन के बाद ट्रेनों के बेहतर संचालन के लिए नार्थ सेन्ट्रल रेलवे एक रोडमैप भी तैयार कर रहा है. दिल्ली-हावड़ा, दिल्ली-मुम्बई और दिल्ली-चेन्नई रुटों पर ट्रेनों का दबाव अधिक है. इसे कम करने के लिए इस तकनीक का प्रयोग किया जा सकता है. ट्रेनों में बर्थ खाली न जाये, इसके लिए भी प्लान तैयार हो रहा है. आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स के जरिए ट्रेनों का संचालन में मानवीय त्रुटियों की संभावना खत्म हो जायेगी. अभी ट्रेनों का परिचालन कन्ट्रोल आफिस एप्लीकेशन से किया जाता है. जिसमें कन्ट्रोल रुम में बैठा ब्यक्ति ट्रेनों को चलाने के लिए दिशा निर्देश देता है. सीपीआरओ के मुताबिक आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स के इस्तेमाल के लिए रेलवे बोर्ड ने जीएम स्तर के अधिकारियों की 21 कमेटियां भी बनायी गई है. जिन्हें अलग-अलग विषयों पर काम करने की जिम्मदारी सौंपी गई है. उन्होंने कहा है कि कमेटियों की संस्तुति के आधार पर रेलवे बोर्ड की ओर से जारी दिशा निर्देशों पर नार्थ सेन्ट्रल रेलवे भी अमल करेगा. उन्होंने दावा किया है कि आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स से संरक्षा बढ़ने के साथ ही ट्रेनों का परिचालन भी सुधरेगा.
ये भी पढ़ें:

लखनऊ में सुबह 10 बजे खुली शराब की दुकान, उमड़ा लोगों का हुजूम

UP के 2100 मजदूरों को महाराष्ट्र से लेकर आई ट्रेन, PM और CM को दिए धन्यवाद
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज