प्रयागराज: अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के शार्प शूटर बच्चा पासी के अवैध निर्माण पर चला सरकारी बुलडोजर

बसपा पार्षद व गैंगस्टर बच्चा पासी के मकान पर चला बुलडोजर
बसपा पार्षद व गैंगस्टर बच्चा पासी के मकान पर चला बुलडोजर

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन (Underworld Don Chhota Rajan) के गुर्गे बच्चा पासी (Bachcha Pasi) की अवैध बिल्डिंग के खिलाफ प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने शनिवार बड़ी कार्रवाई की. धूमनगंज थाना क्षेत्र के रम्मन का पुरवा में स्थित बच्चा पासी के आलीशान मकान सरकारी बुलडोजर से गिरा दिया गया.

  • Share this:
प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में माफियाओं (Mafias) की अवैध संपत्तियों पर सरकारी बुलडोज़र चलाकर उन्हें ज़मींदोज़ किये जाने का सिलसिला लगातार जारी है. बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद (Atique Ahmad), पूर्व ब्लाक प्रमुख दिलीप मिश्रा (Dileep Mishra) और माफिया राजेश यादव (Rajesh Yadav) के बाद अब छोटा राजन गैंग (Chhota Rajan Gang) के शार्प शूटर निहाल कुमार उर्फ बच्चा पासी (Bachcha Pasi) की सम्पत्तियों पर भी सरकारी बुलडोज़र चलने लगा है. अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन के गुर्गे बच्चा पासी की अवैध बिल्डिंग के खिलाफ प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने शनिवार बड़ी कार्रवाई की. धूमनगंज थाना क्षेत्र के रम्मन का पुरवा में स्थित बच्चा पासी के आलीशान मकान सरकारी बुलडोजर से गिरा दिया गया.

करोड़ों का मकान ढहाया गया

रम्मन का पुरवा में बच्चा पासी का 500 वर्ग मीटर में एक मंजिला का मकान है जो कि प्रयागराज विकास प्राधिकरण से बगैर मानचित्र स्वीकृत कराये लगभग दस वर्ष पूर्व बनाया गया है. पीडीए ने विधिक कार्रवाई पूरी करते हुए पहले गैंगस्टर व शातिर अपराधी बसपा नेता निहाल कुमार उर्फ बच्चा पासी को नोटिस जारी किया और उसके बाद जेसीबी मशीनों के जरिए नगर निगम -विकास प्राधिकरण, पुलिस और प्रशासन के साथ ही कई विभागों की साझा टीमें इस कार्रवाई को अंजाम दिया. इस दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गए. मौके पर पुलिस और पीएसी के साथ ही कई मजिस्ट्रेटों की भी तैनाती की गई.



मुंबई के काला घोड़ा शूटआउट के बाद से आया है चर्चा
मुंबई में काला घोड़ा शूटआउट कांड के बाद बच्चा पासी कुख्यात हुआ था और बाद में प्रयागराज में जरायम की दुनिया में उसने अपनी जड़ें जमाई. बच्चा पासी सफेद पोश माफिया बनकर जमीनों के अवैध धंधे में उतर गया और अवैध साम्राज्य खड़ा कर लिया. इस बीच बच्चा पासी बसपा से भी जुड़ गया और दो बार वह खुद और एक बार उसकी पत्नी पार्षद रही. बच्चा पासी इन दिनों भी बसपा से पार्षद है. बच्चा पासी भले ही राजनीति में पार्षद का चुनाव लड़ता है लेकिन माफियाओं की तरह ही उसे मंहगी गाड़ियों और हथियारों के प्रदर्शन का भी शौक है. नवम्बर 2017 में पार्षद पद के लिए हो रहे नामांकन में वह मंहगी गाड़ियों के साथ नामांकन कराने पहुंचा था. जिसको लेकर उसके खिलाफ आचार संहिता उल्लंघन का मुकदमा दर्ज किया गया था. बच्चा पासी को मंहगे और ब्रांडेड कपड़े पहने का शौक है तो माफिया डॉन जैसा दिखने के लिए गले में सोने की कई मोटी चेन भी बच्चा पासी पहनता है.

फरार चल रहा है बच्चा पासी

हाल में ही पुलिस ने बच्चा पासी को पकड़ने के लिए उसके घर पर छापेमारी की थी. पुलिस को बच्चा पासी तो नहीं मिला, लेकिन उसके घर में बिना बिजली मीटर के 13 एसी चलते पकड़े गए थे. जिसको लेकर पुलिस ने बिजली विभाग के अधिकारियों को कार्रवाई के लिए भी लिखा है. बसपा पार्षद बच्चा पासी का आपराधिक इतिहास भी है. बच्चा पासी धूमनगंज थाने का हिस्ट्रीशीटर होने के साथ ही उसके खिलाफ अब तक 24 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. जिनमें से तेरह मुकदमों में बच्चा पासी बरी भी हो चुका है. दरअसल इस बात की जानकारी खुद बच्चा पासी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल कर दी है.

डी-46 है बच्चा पासी का गैंग

प्रयागराज पुलिस ने बच्चा पासी का गैंग डी-46 रजिस्टर्ड कर रखा है और वह कई महीनों से फरार चल रहा है. हांलाकि 27 जून 2020 को उसे गैंगलीडर घोषित करने की वैधता को बच्चा पासी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी है. बच्चा पासी को यह आभास हो गया था कि उसके अवैध निर्माण को कभी भी गिराया जा सकता है, इसीलिए उसने हाईकोर्ट से अवैध निर्माण न गिराये जाने की भी अपील की, लेकिन हाईकोर्ट ने इस मामले में सुनवाई की तारीख 15 अक्टूबर लगाई है. जबकि इससे पहले ही पीडीए ने दल बल के साथ शातिर अपराधी बच्चा पासी के अवैध सम्राज्य पर बुलडोजर चला दिया. वहीं प्रयागराज विकास प्राधिकरण की कार्रवाई को पूर्व पार्षद और माफिया बच्चा पासी की पत्नी रजिता पासी ने गलत करार दिया है. उन्होंने आरोप लगाया है कि बगैर नोटिस दिए हुए ये कार्रवाई बदले की भावना से की जा रही है. रजिता पासी के मुताबिक ये प्रापर्टी उनके ससुर के नाम पर है और दस साल से बच्चा पासी के खिलाफ कोई नया आपराधिक केस भी दर्ज नहीं हुआ है. रजिता पासी ने आरोप लगाया कि वे लोग अनुसूचित जाति के हैं और बसपा से उनके पति चुनाव लड़ते हैं इसलिए राजनीतिक विद्वेष के चलते ये कार्रवाई की जा रही है और उत्पीड़न भी किया जा रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज