होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Success Story : आत्मनिर्भरता की मिसाल बनी " सुधा अचार वाली "  साल भर में बेच दिया 15 लाख का आचार

Success Story : आत्मनिर्भरता की मिसाल बनी " सुधा अचार वाली "  साल भर में बेच दिया 15 लाख का आचार

सुधा एक साल से स्वादिष्ट अचार बनाने का काम करती हैं. वह केमिकल रहित 11 प्रकार के स्वादिष्ट अचार बनाती हैं. देश के कोने ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – अमित सिंह

प्रयागराज : 5 जी के दौर वाली स्पीड से प्रयागराज की महिलाएं आत्मनिर्भरता की इबारत बखूभी लिख रही हैं. रेशम चाय वाली, ” विश्वविद्यालय की चाची चाय” के बाद अब ” सुधा के अचार ” ने कीर्तिमान गढ़ा है. प्रयागराज के शिवकुटी में रहने वाली सुधा ने साल भर के भीतर 15 लाख रुपए का आचार देश भर में बेच दिया है.

सुधा एक साल से स्वादिष्ट अचार बनाने का काम करती हैं. वह कैमिकल रहित 11 प्रकार के स्वादिष्ट अचार बनाती हैं. देश के कोने-कोने तक उनके आचार का जायजा लेने वाले ग्राहक मौजूद हैं. खास बात यह है कि वह किसी भी मशीनरी का भी उपयोग नहीं करतीं है बल्कि अपने हाथों से अचार का निर्माण करती हैं

आपके शहर से (इलाहाबाद)

इलाहाबाद
इलाहाबाद

50 हजार से शुरू किया व्यापार

कोरोना काल के दौरान जब सारी दुनिया पर आर्थिक संकट का खतरा मंडरा रहा था. तो उसी वक्त सुधा ने फैसला लिया कि अब आत्मनिर्भर के क्षेत्र में खुद का काम करना है. सुधा ने बताया कि अचार का व्यापार शुरू करने के लिए मैंने अपने पति से चर्चा किया, उन्होंने बिना समय गवाएं ही इस पर काम करने के लिए हामी भर दी.

हलांकि हमारे पास इतनी धनराशि नहीं थी की एक बड़ा व्यापार शुरू कर सकें. इसलिए 50000 से यह धंधा शुरू किया. धीरे-धीरे ग्राहकों की भीड़ जुड़ती गई और मुनाफे में बढ़ोतरी होने लगी. आज देश के कई राज्यों के लोग हमारे अचार का ज़ायका बड़े शौक से लेते हैं.

संस्था में पांच लोगों की टीम

सुधा के अचार उद्योग में 5 सदस्य टीम है. अचार बनाने से लेकर लोगों के घर तक पहुंचाने का काम इन्हीं के माध्यम से होता है. सोशल मीडिया के माध्यम से उनका व्यापार बढ़ता है. ग्राहक उनके दिए गए नंबर से संपर्क करते हैं और उनके आचार को खरीदते हैं. अच्छा लगने पर यह मांग बढ़ती जाती है.

Tags: Allahabad news, Uttarpradesh news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें