प्रयागराज: यूपी में बेहाल स्वास्थ्य सुविधाएं, गरीब महिला ने सड़क पर दिया बच्चे को जन्म, प्रसव का वीडियो वायरल

वोट डालने जा रही महिलाओं ने सड़क किनारे करवाया प्रसव

Prayagraj News: अहिराई बकसेड़ा एएनएम सेंटर की लापरवाही से गरीब महिला पुष्पा गौतम को सड़क पर बच्चे को जन्म देना पड़ा. सड़क पर गर्भवती का प्रसव कराए जाने का मौके पर मौजूद किसी महिला ने वीडियो बना लिया जो कि सोशल मीडिया पर वायरल (Video Viral) भी हो रहा है.

  • Share this:
प्रयागराज. यूपी की योगी सरकार में स्वास्थ्य सुविधाएं (Health Facilities) कितनी लचर, लापरवाह या ध्वस्त हैं, इसका सहज अनुमान प्रयागराज (Prayagraj) के बहरिया इलाके में उस घटना से लगाया जा सकता है, जहां ईंट-भट्टे पर काम करने वाली पुष्पा गौतम नामक दर्द से तड़पती एक गर्भवती महिला को एएनएम सेंटर से भगाए जाने के बाद सड़क पर बच्चे को जन्म देना पड़ा.

पंचायत चुनाव के वोट डालने जा रही महिलाओं से एएनएम सेंटर से महज 20 मीटर की दूरी पर एक चादर का घेरा बनाकर महिला का सड़क किनारे प्रसव कराया. इसके बाद भी देखभाल के लिए जज्चा-बच्चा को अस्पताल नसीब नहीं हुआ. दोनों की जान बची रहे, इसलिए वहां की महिलाओं ने उसे घर भेज दिया. सड़क पर महिला का प्रसव कराये जाने का मौके पर मौजूद किसी महिला ने वीडियो बना लिया जो कि सोशल मीडिया पर वायरल भी हो रहा है.

सरकार ने अस्पतालों में प्रसव को बढ़ावा देने के लिए वर्ष 2005 में जननी सुरक्षा योजना चलायी हैं. जिसके तहत सरकारी अस्पतालों में प्रसव कराने वाली ग्रामीण महिलाओं को 1400 रुपये और शहरी क्षेत्र की महिलाओं को 1000 रुपये दिए जाते हैं. एएनएम और आशा कार्यकत्रियों को अस्पतालों में प्रसव कराने की जिम्मेदारी भी सौंपी गई है. लेकिन सरकार की योजनाओं को अधिकारी और कर्मचारी ही पलीता लगा रहे हैं. अहिराई बकसेड़ा एएनएम सेंटर की लापरवाही की वजह से ईंट भट्टे पर काम करने वाली एक गरीब महिला के प्रसव का वायरल वीडियो इसका प्रमाण है. यह घटना 15 अप्रैल की बताई जा रही है, जब पंचायत चुनाव के लिए वोट डाले जा रहे थे.

एएनएम की लापरवाही की वजह से यह स्थिति बनी
इस वीडियो को देखने के बाद न्यूज 18 की टीम उस एएनएम सेंटर पर पहुंची. हांलाकि प्रसूता तो हमें नहीं मिली, लेकिन ग्रामीणों ने एएनएम सेंटर पर तैनात एएनएम अनीता चौधरी के कारनामों को लेकर गम्भीर आरोप लगाये. प्रयागराज में 15 अप्रैल को पंचायत चुनावों में पहले चरण के वोट डाले जा रहे थे. सरकारी कर्मचारी और अधिकारी चुनावों में व्यस्त थे, लेकिन प्रसव पीड़ा से तड़पती गर्भवती महिला जब एएनएम सेंटर पहुंची तो उसे भगा दिया गया और एएनएम इस सेंटर से कहीं चली गई. जिसके बाद वोट डालने जा रही महिलाओं ने एएनएम सेंटर से बीस मीटर की दूरी पर ही एक चादर का घेरा बनाकर महिला का सड़क किनारे प्रसव कराया.

एएनएम पर पैसे मांगने का आरोप
ग्रामीणों का आरोप है कि एएनएम द्वारा महिला से पैसों की मांग की गई. पैसे न दे पाने के चलते उसे भगा दिया गया,. ग्रामीणों का आरोप है कि एनएनएम सेंटर पर पिछले सात सालों से अनीता चौधरी तैनात है और हर डिलिवरी के लिए पैसों की मांग करती है. ग्रामीण एएनएम के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. वहीं एएनएम अनीता चौधरी अपने ऊपर लगाये जा रहे आरोपों को गलत बताती और कहती हैं, कि यह उन्हें बदनाम की साजिश है.