सहायक शिक्षक भर्ती में धांधली: इलाहाबाद में जांच टीम की छानबीन जारी, अभ्यर्थी भी डटे

जांच के दौरान परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर बड़ी तादाद में अभ्यर्थी भी मौजूद रहे. ये लगातार भर्ती परीक्षा निरस्त करने या संशोधित रिजल्ट घोषित करने की मांग कर रहे हैं.

Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 5:49 PM IST
सहायक शिक्षक भर्ती में धांधली: इलाहाबाद में जांच टीम की छानबीन जारी, अभ्यर्थी भी डटे
अधजली कॉपियां दिखाते अभ्यर्थी. Photo: News 18
Sarvesh Dubey | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 10, 2018, 5:49 PM IST
उत्तर प्रदेश में 68,500 सहायक शिक्षक पदों के लिए हुई भर्ती परीक्षा के मूल्यांकन में गड़बड़ी की जांच जारी है. उत्तर प्रदेश शासन द्वारा मामले में गठित जांच कमेटी सोमवार को दूसरे दिन भी परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में छानबीन करती रही. जांच के दौरान कमेटी के दो सदस्य सचिव, परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में मौजूद रहे. इनमें सदस्य सर्वेन्द्र विक्रम सिंह और वेद पति मिश्रा शामिल हैं.

बता दें सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के बाद प्रमुख सचिव गन्ना संजय भूसरेड्डी की अध्यक्षता में ये कमेटी गठित की गई है. उधर जांच के दौरान परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय पर बड़ी तादाद में अभ्यर्थी भी मौजूद रहे. ये लगातार भर्ती परीक्षा निरस्त करने या संशोधित रिजल्ट घोषित करने की मांग कर रहे हैं. कई अभ्यर्थियों का कहना है कि उन्हें कोर्ट के आदेश से बाद भी स्कैन कॉपियां नहीं मिली हैं.

बता दें यूपी के परिषदीय विद्यालयों में 68500 सहायक अध्यापक भर्ती में हुई धांधली पर पर्दा डालने के लिए शनिवार को शिक्षा विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों का नया कारनामा सामने आया. अपनी गर्दन फंसती देख अधिकारियों और कर्मचारियों ने परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कुछ जरुरी दस्तावेज जलाने की भी कोशिश की. उधर मूल्यांकन में गड़बड़ी की बात सामने आने के बाद सीएम योगी ने शनिवार को ही सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी डॉ सुत्ता सिंह को निलंबित कर दिया था.

परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में स्कैन कापियां लेने पहुंचे अभ्यर्थियों ने आरोप लगाया है कि शिक्षक भर्ती से जुड़े दस्तावेजों को जलाया गया है. अभ्यर्थियों का कहना है कि जब उन्होंने कॉपियों और अन्य जरुरी दस्तावेजों को जलाने से रोकने की कोशिश की तो उन्हें बाहर भगा दिया गया.

ये भी पढ़ें: 

'सपा-बसपा ने बनाई भारत बंद से दूरी, महागठबंधन की दरार आई सामने'

चुनावी काउंटडाउन के बीच बीजेपी में यूपी प्रभारी की रेस शुरू, भूपेंद्र यादव प्रबल दावेदार
Loading...
राज्यपाल राम नाईक ने अग्रिम जमानत से संबंधित विधेयक राष्ट्रपति के पास भेजा

यूपी में 97 हजार पदों की शिक्षक भर्ती पर मंडराने लगे संकट के बादल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर