महिला कर्मचारियों के हाथों में होगी यूपी के दो रेलवे स्टेशनों की बागडोर
Allahabad News in Hindi

महिला कर्मचारियों के हाथों में होगी यूपी के दो रेलवे स्टेशनों की बागडोर
(फाइल फोटो)

इस मुहिम की शुरुआत 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर होने जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 5, 2018, 10:45 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद मंडल में दो स्टेशनों पर अब सिर्फ महिला कर्मचारी ही नजर आएंगी. स्टेशनों पर रेल परिचालन की कमान संभालने वाले स्टेशन मास्टर से लेकर सभी पदों पर सिर्फ महिला कर्मचारी ही काम करती नजर आएंगी. इसकी शुरुआत 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर होने वाली है. पहले फेज में कानपुर के गोविंदपुरी स्टेशन और इलाहाबाद के बम्हरौली स्टेशन पर यह व्यवस्था शुरू होने जा रही है.

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे से सीपीआरओ गौरव कृष्ण बंसल ने न्यूज18 हिंदी से खास बातचीत में बताया कि 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर पहले फेज में कानपुर के गोविंदपुरी स्टेशन और इलाहाबाद के बम्हरौली स्टेशन पर हम लोग महिला कर्मचारियों की तैनाती करने जा रहे है. इन दोनों स्टेशनों पर तीनों शिफ्ट में सिर्फ महिला कर्मचारियों को तैनात किया जाएगा. ऑपरेटिंग से लेकर ट्रेनों के संचालन की जिम्मेदारी इन महिला स्टाफ के कंधों पर होगी. उन्होने बताया कि महिलाओं को जागरुक करने के लिए रेलवे की तरफ से अनोखी पहल है. जिससे समाज में ये संदेश जाए कि महिलाएं भी पुरुषों के बराबर काम कर सकती हैं.

नार्थ सेन्ट्रल रेलवे से सीपीआरओ गौरव कृष्ण बंसल की फाइल फोटो.




सबसे महत्वपूर्ण होता है ट्रेनों का संचालन 



सीपीआरओ बंसल के मुताबिक एक स्टेशन पर स्टेशन मास्टर समेत करीब 12-15 स्टाफ की तैनाती की जाएगी. लेकिन सबसे महत्वपूर्ण होता है ट्रेनों के संचालन को महिलाओं के हाथों में पूरी तरह से देना. वहीं स्टेशन पर सुरक्षा से जुड़े आरपीएफ की महिला जवानों को तैनात किया जाएगा. गौरव कृष्ण बंसल बताते हैं कि चूंकि रेलवे में महिला स्टााफ की कमी है, इसलिए अभी दो स्टेशनों पर इसकी शुरुआत की जा रही है. ऐसे में नतीजे देखने के बाद रेलवे की ओर से महिला कर्मचारियों की तैनाती वाले स्टेशनों की संख्या को बढ़ाया जा सकता है. फिलहाल इसकी तैयारी पूरी हो चुकी है.

लोको पायलट और टीटीई के पदों पर दे रही है सेवाएं

गौरतलब है कि रेलवे में महिलाएं काफी समय से विभिन्न पदों पर काम कर रही हैं. इनमें पहले से महिला लोको पायलट और टीटीई के पदों की चुनौतीपूर्ण जिम्मेदारी भी महिलाएं निभा रही हैं. ऐसे में अब महिलाओं के हाथों में दो स्टेशनों की बागडोर पूरी तरह सौंपकर महिला सशक्तीकरण का बड़ा संदेश देने की तैयारी की गई है.

क्यों मनाया जाता है अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस

विश्व के विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं के प्रति सम्मान, प्रशंसा और प्यार प्रकट करते हुए इस दिन को महिलाओं के आर्थिक, राजनीतिक और सामाजिक उपलब्धियों के उत्सव के तौर पर मनाया जाता है. यह दिन यह भी याद दिलाता है कि कैसे महिलाओं ने कई सामाजिक व अन्य बाधाओं को पार करते हुए मुकाम हासिल किया और लगातार कर रही हैं.

यह भी पढ़ें:

अर्ध कुम्भ से पहले रेलवे की बड़ी तैयारी, सेटेलाइट टर्मिनल के रूप में विकसित होगा स्टेशन

ऑटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीनों से जल्द लैस होंगे रेलवे के सभी स्टेशन

धू-धू कर जल उठे प्रयागराज एक्‍सप्रेस के कोच, संदिग्ध की तलाश
First published: March 5, 2018, 10:45 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading