UP Panchayat Chunav: पंचायत चुनाव की तारीखों के ऐलान से पहले मांगे रूट मैप, ताकि परेशानी से बच सकें कर्मचारी

प्रयागराज मंडल में जिला प्रशासन ने चुनाव की तैयारी के तहत सभी खंड विकास अधिकारियों से ग्राम पंचायत वार मतदान केंद्रों का रूट मैप मांगा है.

प्रयागराज मंडल में जिला प्रशासन ने चुनाव की तैयारी के तहत सभी खंड विकास अधिकारियों से ग्राम पंचायत वार मतदान केंद्रों का रूट मैप मांगा है.

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ है, लेकिन उसके पहले चुनावों की पुख्ता तैयारी की जा रही है. प्रदेश के सभी जिलों में प्रशासन का जोर है कि चुनाव से पहले सुरक्षा के चाक-चौबंद की जा रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 11:55 AM IST
  • Share this:

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) की तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ है, लेकिन उसके पहले चुनावों की पुख्ता तैयारी की जा रही है. सभी जिलों में प्रशासन का जोर है कि चुनाव की तारीख से ऐलान से पहले सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था कर ली जाए. जिससे चुनाव में किसी भी तरह की बाधा ना आए. प्रयागराज मंडल में जिला प्रशासन ने चुनाव की तैयारी के तहत सभी खंड विकास अधिकारियों से ग्राम पंचायत वार मतदान केंद्रों का रूट मैप मांगा है. ऐसा इसलिए ताकि चुनाव के समय ड्यूटी पर भेजे जाने वाले कर्मचारियों को कोई दिक्कत ना हो और कर्मचारी आसानी से बूथ तक पहुंच जाएं. बीडीओ ने सभी एडीओ पंचायत से इसकी रिपोर्ट मांगी है.

इधर, अगर आपका पंचायत की मतदाता सूची में नाम दर्ज होने से छूट गया है या संशोधन कराना है तो अब तहसील जाना होगा. राजधानी लखनऊ की पांचों तहसीलों में इसके लिए एक पटल बनाया जा रहा है. साथ ही आवेदन जमा करने के बाद ग्रामीण को पावती भी मिलेगी. पंचायत की वोटर लिस्ट में नाम दर्ज कराने से अभी भी कई ग्रामीण चूक गए हैं. इनमें बड़ी संख्या में युवा मतदाता शामिल हैं. ऐसे ग्रामीणों को अब अगर वोटर लिस्ट में नाम दर्ज कराना है, कटाना है या कोई संशोधन कराना है तो उन्हें अपनी संबंधित तहसील जाना होगा.

उपजिला निर्वाचन अधिकारी विपिन कुमार मिश्र बताते हैं कि तहसील में ऐसे लोगों के आवेदन लेने के लिए डेस्क बनाई गई है. यहां पर सहायक रजिस्ट्रार कानूनगो के पास निश्चित प्रारूप पर आवेदन करना होगा. अधिसूचना जारी होने तक आवेदन लिए जाएंगे. तहसील में वोटर लिस्ट के लिए आवेदन करने वालों का नाम, पता के साथ पूरा व्यौरा रजिस्टर में दर्ज किया जाएगा. इससे किसने आवेदन किया यह जानकारी रहेगी. इसके साथ ही आवेदन की पावती भी आवेदनकर्ता को उपलब्ध कराई जाएगी. बीएलओ की जांच के बाद ही नाम जोड़ा, हटाया या संशोधित किया जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज