आजम खान को जौहर ट्रस्ट मामले में HC से फौरी राहत, सुन्नी बोर्ड के आदेश के क्रियान्वयन पर रोक

आजम खान की पत्नी और बेटे को पिछले दिनों तीन मामलों में मिली जमानत (File Photo)
आजम खान की पत्नी और बेटे को पिछले दिनों तीन मामलों में मिली जमानत (File Photo)

रामपुर (Rampur) में अतिक्रमण और कुप्रबंध के आरोप में जौहर ट्रस्ट पर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कार्रवाई का आदेश दिया था. सांसद आजम खान मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट, रामपुर के मुतवल्ली हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2020, 6:43 AM IST
  • Share this:
प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के रामपुर (Rampur) से समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के सांसद मोहम्मद आजम खान (MP Azam Khan) को इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) से फौरी राहत मिली है. सीतापुर जेल में बंद आजम खान को ये राहत मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट मामले में मिली है. हाईकोर्ट ने ट्रस्ट के खिलाफ सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के 20 मार्च 2020 के आदेश के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी है. कोर्ट ने राज्य सरकार सहित विपक्षियों से 2 हफ्ते में जवाब मांगा है.

ये है सुन्नी बोर्ड का आदेश

बता दें अतिक्रमण और कुप्रबंध के आरोप में जौहर ट्रस्ट पर सुन्नी वक्फ बोर्ड ने कार्रवाई का आदेश दिया था. सांसद आजम खान मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट, रामपुर के मुतवल्ली हैं. याचिका ट्रस्ट की ओर से दाखिल की गई है. याचिका में सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के आदेश को नैसर्गिक न्याय के खिलाफ बताते हुए रद्द करने मांग की गई है.



बिना पुख्ता सबूत के बोर्ड नहीं दे सकता ट्रस्ट के काम में दखल
याचिका में आरोप लगाया गया है कि सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को जब तक पुख्ता सबूत न हों, ट्रस्ट के कार्य में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है. जस्टिस शशिकान्त गुप्ता और जस्टिस पंकज भाटिया की खंडपीठ ने सुनवाई के बाद बोर्ड के आदेश के क्रियान्वयन पर रोक लगा दी है. और इस संबंध में यूपी सरकार सहित तमाम विपक्षियों से 2 हफ्ते में जवाब मांगा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज