अपना शहर चुनें

States

प्रयागराज के लाल सेबिया अमरूद की अलग है पहचान, कोरोना के बीच इस वजह से बढ़ी डिमांड

प्रयागराज के लाल सेबिया अमरूद देश में ही नहीं विदेशों में भी खास तौर पर पसन्द किए जाते हैं. लेकिन कोरोना काल (COVID-19) में औषधीय गुणों वाले इन अमरूदों की मांग बढ़ गई है.
प्रयागराज के लाल सेबिया अमरूद देश में ही नहीं विदेशों में भी खास तौर पर पसन्द किए जाते हैं. लेकिन कोरोना काल (COVID-19) में औषधीय गुणों वाले इन अमरूदों की मांग बढ़ गई है.

प्रयागराज के लाल सेबिया अमरूद देश में ही नहीं विदेशों में भी खास तौर पर पसन्द किए जाते हैं. लेकिन कोरोना काल (COVID-19) में औषधीय गुणों वाले इन अमरूदों की मांग बढ़ गई है.

  • Share this:
प्रयागराज. देश के अलग-अलग हिस्सों में पाये जाने वाले अमरुदों में प्रयागराज के अमरूदों की अपनी एक अलग पहचान है. यहां के अमरूदों की विशेषता ये है कि ये सेव जैसे सुर्ख लाल होते हैं और इनका स्वाद भी आम अमरूदों से बिल्कुल अलग होता है. प्रयागराज के लाल सेबिया अमरूद देश में ही नहीं विदेशों में भी खास तौर पर पसन्द किए जाते हैं. लेकिन कोरोना काल (COVID-19) में औषधीय गुणों वाले इन अमरूदों की मांग बढ़ गई है. हांलाकि पैदावार कम होने से इस बार अमरूद के भाव तेज हैं, लेकिन बावजूद इसके दुकानदार ग्राहकों की डिमांड पूरी नहीं कर पा रहे हैं. वहीं चिकित्सक भी अमरूद के औषधीय गुणों को देखते हुए इसे कोरोना से लड़ने में इम्यूनिटी बूस्टर (Immunity boosters) बता रहे हैं.

कुम्भ नगरी प्रयागराज की पहचान जहां संगम से होती है, वहीं प्रयागराज में पाए जाने वाले अलग-अलग वैराइटी के अमरूदों के लिए पूरे देश व दुनिया में मशहूर है. यहां के सेबिया, सफेदा और अन्य वैराइटी के अमरूदों की महक पूरे देश के कोने-कोने के साथ ही विदेशों तक में भी फैली हुई है. हर साल सर्दियों में अक्टूबर महीने के अंत और नवम्बर की शुरूआत में अमरूद बाजा में आ जाते हैं. इसमें सुर्खा या सेबिया की सबसे ज्यादा लोगों के बीच डिमांड रहती है क्योंकि इसे गरीबों का सेव भी कहा जाता है. लेकिन कोरोना काल में इसकी डिमांड बढ़ने से ये इस बार ये गरीबों से भी दूर होता दिख रहा है. लेकिन मंहगे होने के बावजूद लोग न केवल इसे खरीद रहे हैं बल्कि दूर अपने रिश्तेदारों तक भी पहुंचा रहे हैं.

ये भी पढ़ें: Kisan Aandolan: हरियाणा के किसानों ने PM मोदी के लिए बनाया 5 किलो बूंदी का लड्डू 



चिकित्सकों ने बताया ये फायदा
वहीं चिकित्सक भी इस अमरूद के सेवन को सेहत के  लिए अच्छा बता रहे हैं. डॉ राजीव सिंह का कहना है कि अमरुद का फल आयुर्वेद में पेट की बीमारियों के लिए राम बाण इलाज है. लेकिन इस फल में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी और जिंक होने से यो कोरोना से लड़ने में भी इम्यूनिटी बूस्टर के तौर पर काम करता है. इसके चलते शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए अमरूद के फल का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए हर तरह से लाभदायक हो सकता है.

औषधीय गुणों से भरपूर प्रयागराज के इन अमरूदों की इतनी डिमांड है कि दुकानदार ग्राहकों की डिमांड पूरी नहीं कर पा रहे हैं. अमरुद कारोबारी तीरथ राज सोनकर के मुताबिक हर दिन चालीस से पचास क्विंटल की डिमांड अकेले प्रयागराज में है. जबकि प्रयागराज में अमरूदों का तीस से चालीस करोड़ का सालाना कारोबार भी होता है जिसमें से अकेले सेविया अमरूदों का कारोबार 20 करोड़ से ज्यादा का होता है. लेकिन इस बार अमरूद की अच्छी पैदावार न होने से कारोबारी लोगों की मांग के मुताबिक अमरूद उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज