Home /News /uttar-pradesh /

Prayagraj: भारत-पाक युद्ध में जीत के जश्न पर जला स्वर्णिम मशाल पहुंचा प्रयागराज, जोरदार स्वागत

Prayagraj: भारत-पाक युद्ध में जीत के जश्न पर जला स्वर्णिम मशाल पहुंचा प्रयागराज, जोरदार स्वागत

स्वर्णिम विजय मशाल.

स्वर्णिम विजय मशाल.

Swarnim Vijay Mashal: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) की ओर से 16 दिसंबर 2020 को प्रज्वलित की गई स्वर्णिम विजय मशाल गुरुवार को नार्थ सेंट्रल रेलवे के मुख्यालय सूबेदारगंज पहुंची. स्वर्णिम विजय मशाल के नार्थ सेंट्रल रेलवे (North Central Railway) मुख्यालय पहुंचने पर आरपीएफ बैंड (RPF Band) ने देश भक्ति गीतों के साथ भव्य स्वागत किया.

अधिक पढ़ें ...

प्रयागराज. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 16 दिसंबर 2020 को प्रज्वलित की गई स्वर्णिम विजय मशाल गुरुवार को नार्थ सेंट्रल रेलवे के मुख्यालय सूबेदारगंज पहुंची. 1971 के भारत-पाक युद्ध में भारतीय सेना की जीत के 50 वर्ष पूरे होने पर इस मशाल को प्रज्वलित किया गया था. स्वर्णिम विजय मशाल के नार्थ सेंट्रल रेलवे मुख्यालय पहुंचने पर आरपीएफ बैंड ने देश भक्ति गीतों के साथ भव्य स्वागत किया. इस मौके पर नार्थ सेंट्रल रेलवे के जीएम प्रमोद कुमार ने स्वर्णिम विजय मशाल थामी. जिसके बाद आरपीएफ ने स्वर्णिम विजय मशाल को सलामी दी.

इसके लिए एनसीआर मुख्यालय में पहले से ही भव्य तैयारियां की गई थीं. इस मौके पर देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने वाले शहीद जवानों को भी सलामी दी गई. इस मौके पर जीएम नार्थ सेन्ट्रल रेलवे प्रमोद कुमार ने 1971 के भारत-पाक युद्ध में भारतीय रेलवे के योगदान की भी चर्चा की. उन्होंने बताया कि किस तरह से इस लड़ाई में भारतीय रेलवे ने बढ़ चढ़कर सेना की मदद की और रेलवे के जरिए रसद, सैनिकों और हथियारों को पहुंचाने में रेलवे ने मदद की. रेलवे के एक कर्मचारी दुर्गा शंकर जो कि दुश्मन के बम विस्फोट हमले में घायल हो गए थे उन्होंने कुहनी के जरिए ट्रेन चलाकर देश सेवा का जज्बा दिखाया था।.

जीएम नार्थ सेंट्रल रेलवे ने स्वर्णिम विजय मशाल को रेलवे के खिलाड़ियों को हस्तांतरित किया गया. खिलाड़ियों की ओर से महिला क्रिकेट कोच और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी शीबा कोठारी ने मशाल यात्रा को आगे बढ़ाया. जिसके बाद खिलाड़ियों द्वारा आरपीएफ को स्वर्णिम विजय मशाल सौंपी गई. कार्यक्रम के अंत में आरपीएफ ने सैन्य अधिकारियों को मशाल वापस सौंपी. सैन्य अधिकारी डिप्टी जीसीओ अजय पसबोला के मुताबिक यह मशाल 29 नवंबर तक एयर फोर्स स्टेशन बमरौली में रखी जाएगी. जिसके बाद इसे यहां से दिल्ली के लिए रवाना किया जाएगा. 16 दिसंबर को देश के विभिन्न हिस्सों से होते हुए स्वर्णिम विजय मशाल एक वर्ष पूराकर दिल्ली पहुंचेगी. जहां पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वर्णिम विजय मशाल लेकर यात्रा के समापन की घोषणा करेंगे.

Tags: Central Railway, India pakistan war, PM Modi, Prayagraj

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर