Home /News /uttar-pradesh /

the shaktipeeth of kalyani devi is located in prayagraj here 1500 years old ashtadhatu statue is worshipped

प्रयागराज में स्थित है कल्याणी देवी का शक्तिपीठ,यहां 1500 साल पुरानी अष्टधातु प्रतिमा की होती है पूजा अर्चना

X

आस्था की नगरी यानी प्रयागराज में मौजूद है 51 शक्तिपीठों में से एक कल्याणी देवी का मंदिर.यह वह स्थान है जहां माता सती के हाथों की तीन उंगलियां गिरी थीं.यहां मौजूद माता की अष्टधातु की मूर्ति लगभग 1500 साल पुरानी है.सिद्धपीठ तथा शक्तिपीठ होने के कारण यहां भक्त आस्था के साथ म?

अधिक पढ़ें ...

    रिपोर्ट:- प्राची शर्मा, प्रयागराज

    आस्था की नगरी यानी प्रयागराज में मौजूद है 51 शक्तिपीठों में से एक कल्याणी देवी का मंदिर.यह वह स्थान है जहां माता सती के हाथों की तीन उंगलियां गिरी थीं.यहां मौजूद माता की अष्टधातु की मूर्ति लगभग 1500 साल पुरानी है.सिद्धपीठ तथा शक्तिपीठ होने के कारण यहां भक्त आस्था के साथ माता के दर्शन को पहुंचते हैं.मंदिर के अध्यक्ष पंडित सुशील कुमार पाठक बताते हैं कि त्रेता युग में महर्षि याज्ञवल्क्य ने भी इस स्थान पर मां की आराधना की थी.वह कहते हैं कि पुराणों में उल्लेख मिलता है कि माता सती की तीन उंगलियां गिरने के कारण यह स्थान शक्तिपीठ बन गया और प्रयागराज के प्राचीन इतिहास में एक और पौराणिक कहानी जुड़ गई.

    मंदिर में मौजूद मनोकामना कुंड करता है सबकी इच्छाएं पूरी
    मंदिर परिसर में मौजूद एक मनोकामना कुंड है.मान्यता है कि जो भी भक्त सच्चे हृदय से अपनी मनोकामना यह मांगता है,उसे देवी मां पूरी करती हैं.साथ ही यहां मुंडन,कर्ण छेदन जैसे मांगलिक संस्कार साल भर कराए जाते हैंयहां भगवान श्री राम भी सपरिवार सहित विराजमान हैं.मंदिर के पुजारी बताते हैं कि यहां दोनों नवरात्रि और होली के बाद अष्टमी में एक भव्य और बड़ा मेला लगता है.

    आपके शहर से (इलाहाबाद)

    इलाहाबाद
    इलाहाबाद

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर